हरदा के इस सीट से चुनाव लड़ने पर मंथन, दावेदार बोले- आप लड़ो, हम कदम खींच लेंगे पीछे, देंगे साथ

देहरादून : उत्तराखंड में चुनाव की तारीख का ऐलान हो चुका है। 14 तारीख को प्रदेश की जनता दिग्गजों के किसमत का फैसला करेगी। दावेदारों के नाम पर मंथन चल रहा है। यूपी में हड़कंप मचा हुआ है। सबकी निगाहें उत्तराखंड में है कि आकिर किसे कहां से टिकट मिलता है। वहीं कांग्रेस में सबकी निगाहें एक पर ही टिकी है वो हैं हरीश रावत. सोशल मीडिया पर एक्टिव रहने वाले पूर्व सीएम हरीश रावत कहां से चुनाव लड़ेंगे ये हर कोई जानना चाहता है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार कांग्रेसी पूर्व सीएम हरीश रावत को डीडीहाट से प्रत्याशी घोषित करने को लेकर एक जुट हो गए हैं. यहां तक की दावेदारों तक का कहना है कि हरीश रावत आप यहां से चुनाव लड़ो, हम कदम पीछे खींच लेंगे और साथ देंगे। कांग्रेसी एक जुट होकर हरीश रावत को डीडीहाट से दावेदार करने की बात कह रहे हैं। बता दें कि पार्टी पदाधिकारी पिथौरागढ़ पहुंचे हैं। लोनिवि डाक बंगले में बैठक चली। सभी का कहना है कि हरीश रावत डीडीहाट से चुनाव लड़ते हैं तो सभी अपनी दावेदारी वापस लेंगे और हरदा के लिए जी जान लगा देंगे।

आपको बता दें कि डीडीहाट से हरीश रावत को चुनाव लड़ाने के लिए कांग्रेस में एक गुट पहले से ही वकालत कर रहा था। बीते महीनेचुनाव संचालन समिति के अध्यक्ष बनने के बाद हरीश रावत में डीडीहाट क्षेत्र में देवलथल और डीडीहाट में सभा की थी। इन सभाओ में कांग्रेस नेता मयूख महर ने मंच से कहा था कि हरीश रावत डीडीहाट से चुनाव लड़े। एक महीने बाद कांग्रेसी नेता का यह बयान मंशा को साबित करने लगा है। बीते दिनों कांग्रेस ने इस संबंध में एक विज्ञप्ति जारी की। तब भी इसे सामान्य माना जा रहा था।

मंगलवार को डीडीहाट से कांग्रेस के दावेदार प्रदीप पाल, रमेश कापड़ी, रेवती जोशी, खीमराज जोशी, हिमांशु ओझा सहित कांग्रेस जिलाध्यक्ष त्रिलोक महर और डीडीहाट क्षेत्र के पार्टी के जनप्रतिनिधि सहित कार्यकर्ता पहुंचे। सभी का कहना है कि हरीश रावत डीडीहाट से चुनाव लड़े। हरीश रावत के चुनाव लड़ने पर दावेदारों ने दावेदारी वापस लेकर उनके पक्ष में एकजुट होने की बात कही है।

आपको बता दें कि इस सीट पर अभी तक कांग्रेस ने जीत हासिल नहीं की है। साल 1984 से इस सीट पर कांग्रेस नही जीती है। हरीश रावत डीडीहाट से लगी धारचूला सीट से चुनाव जीते है। कांग्रेस को लगता है कि हरीश रावत के प्रत्याशी बनने पर कांग्रेस सीट का इतिहास बदल सकता है। बता दें कि इस सीट पर लगातार 5 बार भाजपा ने परचम लहराया है। इस सीट में विशन सिंह चुफाल ने पांच बार जीत हासिल की है जो की अभी कैबिनेट मंत्री हैं। चुफाल से लोहा लेने के लिए कांग्रेस हरीश रावत को चुनाव मैदान में उतारने की तैयारी में है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here