प्रशासन ने बनाया पतंजलि को कंटेनमेंट जोन, बाबा बोले- ये बहुत बड़ा झूठ, कोई नहीं संक्रमित

हरिद्वार : देशभर में कोरोना का प्रकोप-लगातार बढ़ रहा है धर्मनगरी हरिद्वार में भी बड़ी संख्या में कोरोना पॉजिटिव मिल रहे हैं हरिद्वार स्वास्थ्य विभाग द्वारा पतंजलि योगपीठ की तीन संस्था पतंजलि योगपीठ योग ग्राम और अचार्यकलम में 83 कोरोना पॉजिटिव मिलने की बात की गई थी। रिपोर्ट के अनुसार प्रशसान द्वारा पतंजलि को कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। लेकिन इसको लेकर योग गुरु बाबा रामदेव ने पतंजलि की किसी भी संस्था में कोरोना पॉजिटिव मिलने की बात को नकारा है और कहा है कि यह झूठ फैलाया जा रहा है की कोरोना पॉजिटिव पतंजलि योग ग्राम और अचार्यकुलम में मिले हैं जो भी पतंजलि में आ रहे हैं उनका पहले कोरोना टेस्ट किया जा रहा है, उसमें जो पॉजिटिव आए हैं उनको आइसोलेट किया गया है। यह अफवाह फैलाई जा रही है।

बाबा बोले-यह एक अफवाह है कि पतंजलि में कोरोना है

योग गुरु बाबा रामदेव का कहना है कि एक बहुत बड़ा झूठ फैलाया जा रहा है की कोरोना पतंजलि में फैल रहा है मगर कोरोना के पॉजिटिव पतंजलि योग पीठ योग ग्राम और अचार्यकुलम के साथ ही हमारे किसी भी शिक्षा संस्थान में नही मिले हैं अचार्यकुलम में हर साल बच्चों के एडमिशन होते हैं हर दिन 50 से ज्यादा रोगी पतंजलि योगपीठ में आते हैं और 50 से 100 रोगी योग ग्राम में आते हैं हमारे द्वारा उनका कोरोना टेस्ट किया जा रहा है उसमें जो कोरोना पॉजिटिव आ रहे हैं उनको हमारे द्वारा आइसोलेट किया गया है जिनको घर भेजना था उन्हें वापस भेज दिया गया यह एक अफवाह है की पतंजलि में कोरोना है।

हमारे द्वारा अपने संस्थान में आने से पहले सबका कोरोना टेस्ट किया जा रहा-बाबा

 बाबा रामदेव का कहना है कि कोरोना महामारी विकराल रूप धारण किए हुए हैं। ऐसे में हम किसी को भी कोरोना टेस्ट के बिना अपने संस्थानों में नहीं आने दे रहे हैं, जो भी कोरोना पॉजिटिव आए हैं उनका हमारे द्वारा अपने संस्थान में आने से पहले कोरोना टेस्ट किया गया है। यह कहना की कोरोना पतंजलि में फैल रहा है यह बिल्कुल ही गलत है। हमारे द्वारा कोरोना की जांच के लिए पतंजलि फेस टू में सेंटर बनाया गया है और जो टेस्ट में नेगेटिव आता है उसी को हम अपने संस्थान में जाने की अनुमति दे रहे हैं और पतंजलि तो देश और दुनिया का कोरोना खत्म करने का कार्य कर रही है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here