उत्तराखंड में इस बार देश में सबसे अधिक चली लू, क्लाईमेट चेंज ने बदला मौसम

heat wave in uttarakhand

 

भले ही आपको यकीन न हो लेकिन ये सच है कि उत्तराखंड में इस बार देशभर में सबसे अधिक लू चली है। जी, ये सच है और मौसम विभाग के आंकड़े यही कह रहें हैं।

सुनने में ये थोड़ा अजीब लग सकता है लेकिन क्लाइमेट चेंज (Climate Change) का सबसे अधिक असर उत्तराखंड पर पड़ता हुआ दिख रहा है। भारतीय मौसम विभाग के ताजे आंकड़ों के अनुसार इस वर्ष देशभर में सबसे ज्यादा लू उत्तराखंड में चली है। मौसम विभाग के आंकड़े कहते हैं कि देशभर में रिकॉर्ड किए गए 203 हीट वेव डेज (heat wave days) यानी लू वाले दिनों में से 28 दिन अकेले उत्तराखंड में हैं।

आमतौर पर उत्तराखंड में लू चलने की घटनाएं बेहद कम होती हैं और अन्य राज्यों की तुलना में ये बेहद कम ही होते हैं लेकिन इस बार उत्तराखंड ने सबसे पीछे छोड़ दिया है।

Monkey Pox : उत्तराखंड के करीब पहुंचा मंकी पॉक्स, राज्य में अलर्ट जारी

लोकसभा में कांग्रेस सांसद गौरव गोगोई के सवाल के जवाब में केंद्रीय विज्ञान प्रौद्योगिकी एवं पृथ्वी विज्ञान राज्यमंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने जानकारी दी है कि वर्ष 2021 में देश में मात्र 36 लू वाले दिन रिकार्ड किए गए थे, जबकि इस वर्ष यह आंकड़ा पांच गुना अधिक (203) रिकार्ड किया गया है।

उत्तराखंड में 2020 में मात्र सात लू वाले दिन रिकॉर्ड किए गए थे। इससे पहले वर्ष 2012 में भी उत्तराखंड में सबसे अधिक 27 हीट वेव रिकॉर्ड की गई थीं।

क्या होती है हीट वेव

गुणात्मक रूप से हीट वेव हवा के तापमान की एक स्थिति है, जो मानव शरीर के लिए घातक हो जाती है। इसे एक क्षेत्र में तापमान सीमा के आधार पर परिभाषित किया जाता है। हीट वेव के लिए अधिकतम तापमान मैदानी क्षेत्रों के लिए कम से कम 40 डिग्री सेंटीग्रेट और पहाड़ी क्षेत्रों के लिए कम से कम 30 डिग्री सेंटीग्रेट का पैमाना तय किया जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here