उत्तराखंड: राष्ट्रीय खेलों के आयोजन का दावा, जानें कितना है इनमें दम

 

देहरादून: खेल मंत्री रेखा आर्य ने उत्तराखंड में राष्ट्रीय खेलों के आयोजन को लेकर खेल विभाग के अधिकारियों को निर्देश दे दिए हैं। उन्होंने कहा कि 2024 में राष्ट्रीय खेलों की मेजबानी करने के लिए तैयारी शुरू करें, जिससे समय रहते सभी तैयारियां पूरी कर ली जाएं। हालांकि, खेल मंत्री के दावों पर सवाल भी खड़े हो रहे हैं। राज्य में पिछले 8 सालों से राष्ट्रीय खेलों की मेजबानी को लेकर तैयारियां चल रही हैं। लेकिन, उत्तराखंड में कब राष्ट्रीय खेल होंगी इसको लेकर स्थिति साफ नहीं हो पाई।

अब एक बार फिर से धामी सरकार में खेल मंत्री की जिम्मेदारी निभा रही रेखा आर्य ने 2024 में राष्ट्रीय खेलों के आयोजन को लेकर तैयारी करने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं। राष्ट्रीय खेलों की मेजबानी के लिए इसलिए भी समय लग रहा है क्योंकि अभी 36 वें राष्ट्रीय खेल गोवा और उसके बाद 37 वें राष्ट्रीय खेल की मेजबानी छत्तीसगढ़ को करनी है। दोनों राज्यों में अभी तक राष्ट्रीय खेल नहीं हो पाए, जिसकी वजह से उत्तराखंड में राष्ट्रीय खेलों के आयोजन को लेकर देरी हो रही है।

बताया जा रहा है कि यदि अगर उत्तराखंड की तैयारियां पुख्ता रही तो 38 वें राष्ट्रीय खेल से पहले ही 37 में राष्ट्रीय खेल की मेजबानी उत्तराखंड को मिल सकती है। क्योंकि गोवा की तैयारियां लगभग 36 वें खेल को लेकर पूरी और कोविड की वजह से गोवा में राष्ट्रीय खेल 2020 टल चुके हैं। उत्तराखंड में राष्ट्रीय खेलों के आयोजन को लेकर एक बड़ी राशि की जरूरत उत्तराखंड को है और खेल मंत्री रेखा आर्य का कहना है कि इसको लेकर वह केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर से मुलाकात करने वाली हैं और उनके समक्ष राष्ट्रीय खेलों के आयोजन के लिए बजट की मांग करने वाली हैं।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से भी इस संबंध में चर्चा करने वाली हैं। रेखा आर्य का कहना है कि डेढ़ सौ करोड़ के आसपास प्रदेश सरकार राष्ट्रीय खेलों के आयोजन की तैयारियों को लेकर बजट जारी कर चुकी है, जिस पर काम चल रहा है। वहीं, केंद्र सरकार से भी वह बजट की मांग करेंगी। करीब 500 करोड़ रुपये राष्ट्रीय खेलों के आयोजन पर खर्च होंगे।

उत्तराखंड में जरूर राष्ट्रीय खेलों के आयोजन के लिए 2024 का लक्ष्य प्रदेश सरकार के द्वारा तय कर दिया गया। लेकिन, उत्तराखंड में राष्ट्रीय खेलों का आयोजन कब होगा यह अभी पूरी तरीके से तय नहीं है। पहले जिन राज्यों को राष्ट्रीय खेलों की मेजबानी मिली हुई है, उन पर भी यह निर्भर करता है कि आखिर कब जाकर वहां राष्ट्रीय खेल होते हैं। ऐसे में देखना यही होगा कि आखिरकार जिस लक्ष्य के साथ प्रदेश सरकार राष्ट्रीय खेलों की मेजबानी को लेकर आगे बढ़ रही है। क्या उत्तराखंड की तैयारियों को देखकर केंद्र सरकार पहले उत्तराखंड को मेजबानी देने पर राजी होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here