चमोली हादसा के दिन ऐसे बची दो युवकों की जान, ड्यूटी हुई थी तय

चमोली : बीती 7 फरवरी को चलोमी जिले के तपोवन क्षेत्र में हुए जलप्रलय के बाद कई लोग लापता हैं जिसको लेकर रेस्क्यू जारी है। इस आपदा में कई लोग अपनी जिंदगी गवा चुके हैं और कई लोग अभी भी लापता हैं, जिनकी लताश में लगातार रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। अब तक 34 लोगों के शव बरामद किए जा चुके हैं जिनमे से कइय़ों की पहचान नहीं हो पाई है। उत्तराखंड पुलिस ने लोगों से अपील की है कि अगर किसी के घर के सदस्य लापता हैं तो वो पुलिस से सम्पर्क करें। शवों की शिनाख्त करने में मदद करें। जवानों का रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है।

वहीं इस बीच दो युवक सहमे हुए हैं क्योंकि उस दिन अगर वो काम पर गए होते तो आज शायद जिंदा ना होते। वो मंजर को याद कर दो युवक आज भी सहम जा रहे हैं। जी हां बता दें कि आपदा के दिन रविवार था। कई मजदूरों की छुट्टी थी। लेकिन कई मजदूर काम पर गए थे। जिनमे से कइयों की मौत हो गई औऱ कई लापता है। वहीं इस दो युवकों को लेकर अहम जानकारी मिली है। जी हां उस दिन दो युवकों की ड्यूटी भी तय हुई थी, जिसमें सहारनपुर के राशिद और जिला चमोली के ही सूरज काम पर नहीं गए औऱ कुछ देर बाद जल प्रलय की खबर आ गई । वो मंजर याद कर वो आज भी सहम जाते हैं औऱ भगवान को शुक्रिया अदा कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here