चमोली पहुंचीं राज्यपाल के सामने फूट-फूट कर रोए टनल में फंसे लोगों के परिवार वाले, कही ये बात

चमोली : 5वें दिन भी तपोवन टनल में फंसे 30 से ज्यादा मजदूरों को बचाने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन सुबह से जारी था, लेकिन अचानक टनल में पानी भर जाने के कारण रेस्क्यू को अभी रोका गया है. जी हां खबर है कि अलकनंदा नदी का जलस्तर अचानक बढ़ रहा है और उसका पानी टनल में भी आ गया है. इस वजह से रेस्क्यू टीम को आधे किलोमीटर तक पीछे ले जाया गया है और रेस्क्यू को रोका गया है.

वहीं बता दें कि इससे राज्यपाल बेबी रानी मौर्य आपदा ग्रस्त का जायजा लेने चमोली गई थीं। लेकिन राज्यपाल को टनल में फंसे लोगों के परिवार वालों के आक्रोश का सामना करना पड़ा. पीड़ित परिवार वाले राज्यपाल के सामने फूट फूट कर रोने लगे और राहत-बचाव कार्य में तेजी लाने की गुहार लगाते रहे. एक के परिजन ने राज्यपाल से कहा कि हम 5 दिन आपनों की तलाश में यहां भटक रहे हैं लेकिन कोई खबर नहीं है। उनका कहना है कि घरवाले बार-बार पूछ रहे हैं। अब मैं क्या उनको जवाब दूं.

वहीं लोगों को रोता देख उपराज्यपाल बेबी रानी मौर्या ने कहा कि बचाव कार्य में दिक्कत आ रही है और बड़ी-बड़ी मशीनों को मंगवाया जा रहा है, कुछ मुंबई से तो कुछ हिमाचल से आ रही हैं. कहा कि कल शाम तक मशीनें पहुंच जाएंगी, आपको इतनी तसल्ली रखनी पड़ेगी, मैं आपके साथ हूं, मुझे भी अच्छा नहीं लग रहा है कि आपके परिजन फंसे रहे, तसल्ली तो करनी पड़ेगी, अब क्या ही कर सकते हैं, मैं कल फिर आऊंगी और रेस्क्यू टीम को निर्देश देकर जा रही हूं कि जितनी जल्दी हो सके फंसे लोगों को बाहर निकाला जाए.

राज्यपाल बेबी रानी मौर्या ने कहा कि रेस्क्यू टीम ने मुझे आश्वस्त किया है कि हम और रास्ते निकाल रहे हैं, ताकि टनल में जल्दी से जल्दी पहुंचा जा सके और फंसे लोगों को बाहर निकाला जा सके, कुछ संसाधन मुंबई से और कुछ संसाधन हिमाचल से आ रहे हैं, यह काम नहीं कर रहे हैं, इसलिए और संसाधन मंगाए गए हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here