मोरबी में गिरा केबल पुल, 141 लोगों की मौत, 150 से ज्यादा घायल


गुजरात स्थित मोरबी इलाके में माच्छू नदी पर बना एक केबल पुल गिर जाने से 141 लोगों की मौत हो गई है। जबकि 150 से अधिक घायल लोगों को मोरबी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इस हादसे में बच्चों की संख्या अधिक है। दुर्घटना में मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है।

गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल, राजस्व मंत्री, सहित गृहमंत्री, उच्च अधिकारियों ने घटनास्थल पर जाकर जानकारी ली। खबर है कि दुर्घटना के समय पुल पर लगभग 500 लोग थे। मौके पर बचाव कार्य लगातार चल रहा है। दुर्घटना मोरबी में आज शाम करीब साढ़े छह बजे हुई। बचाव दल फिलहाल नदी में गिरे लोगों का रेस्क्यू कर रहे हैं। मरम्मत के बाद पुल को चार दिन पहले ही खोला गया था। हादसे की जानकारी मिलते ही पुलिस और प्रशासन की टीम दुर्घटनास्थल पर मौके पर पहुंच गईं। रेस्क्यू अभियान युद्ध स्तर चला जा रहा है। छुट्टी होने के चलते यहां काफी भीड़भाड़ थी। गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने हादसे पर दुख जताया है।

143 साल पुराना था पुल, रिनोवेशन में लगे थे दो करोड़मोरबी पुल 143 साल पुराना है जो साल 1879 में तैयार किया गया था। उस समय यह पुल साढ़े तीन लाख रुपये में बनकर तैयार हुआ था। इसे झूलता पुल कहा जाता है। पुल की लंबाई 765 फीट है। पुल की मरम्मत के लिए ओरेवा ग्रुप को दो करोड़़ रुपये दिए गए थे। और इसके देखभाल की जिम्मेदारी भी ओरेवा ट्रस्ट की थी। यह पुल सात महीने तक बंद रहा था। मरम्मत के बाद तीन दिन पहले ही पुल को खोला गया था।

बता दें कि मोरबी केबल ब्रिज मरम्मत और जीर्णाेद्धार के बाद गुजराती नववर्ष के अवसर पर 26 अक्टूबर इसका उद्घाटन किया गया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल और संबंधित अधिकारियों से दुर्घटना के संबंध में जानकारी ली। प्रधानमंत्री ने मोरबी में हुए हादसे में जान गंवाने वालों में से प्रत्येक के परिजनों के लिए पीएमएनआरएफ से दो लाख रुपये की सहायता राशि देने की घोषणा की है, साथ ही प्रत्येक घायल को 50 हजार रुपये दिए जाने को कहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here