बड़ी खबर: लालकिला हिंसा मामले में दीप सिद्धू का एक और खुलासा, तेजी से आगे बढ़ रही जांच

नई दिल्ली: लालकिला हिंसा के बाद संदीप सिंह उर्फ दीप सिद्धू ने सोनीपत में अपना मोबाइल बंद कर दिया था। इसके बाद इसने फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े लोगों के मोबाइल नंबरों का इस्तेमाल किया था। इसने इन लोगों के नामों से फोन कई दिन चलाए थे। दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा को जांच में ये भी पता लगा है कि दीपू सिद्धू ने व्हाट्सएप व मैसेंजर पर दो ग्रुप बना रखे थे। इस ग्रुप में लक्खा सिधाना और जुगराज जैसे आरोपी जुड़े थे। जुगराज ने ही लाल किले की प्राचीर पर झंडा फहराया था।

पुलिस अधिकारियों के अनुसार, ये ग्रुप काफी पहले बनाए गए थे और इन ग्रुप में साजिश रचने की खूब बात होती थी। पुलिस दीप के मोबाइलों को फोरेंसिक जांच के लिए भेज रही है, ताकि ये पता लगाया जा सके कि व्हाट्सएप ग्रुप में क्या-क्या बात होती थी। पुलिस अधिकारियों के अनुसार, शुरूआती जांच के बाद ऐसे संकेत मिले हैं कि आरोपियों ने ग्रुप में ही लालकिला हिंसा व लाल किले की प्राचीर पर झंडा फहराने की साजिश रची थी। मोबाइल की फोरेंसिक रिपोर्ट आने के बाद ही इसका खुलासा हो पाएगा।

पुलिस अधिकारियों के अनुसार दीप सिद्धू करनाल में एक होटल में रुका हुआ था। दरअसल दीप 26 व 27 जनवरी तक दो मोबाइल नंबरों का इस्तेमाल कर रहा था। खास तौर पर 26 जनवरी की सीडीआर के जरिए दिल्ली पुलिस हिंसा में उसकी मौजूदगी को साबित करेगी। पुलिस अधिकारियों के अनुसार, दीप ने दूसरा मोबाइल नंबर 27 को चालू हुआ। इस नंबर की लोकेशन पंजाब के पटियाला में मिली। इस नंबर से उसने 799 रुपये का नेटफ्लिक्स रिचार्ज करवाया। नेटफ्लिक्स से रिचार्ज करवाते ही दिल्ली पुलिस को दीप के बारे में सुराग हाथ लग गया। इंस्पेक्टर चंद्रिका व मानसिंह की टीम पहले से पंजाब में मौजूद थीं। इन टीमों ने दीप को करनाल के पास दिल्ली-चंडीगढ़ हाइवे से पकड़ लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here