फिर वापस वहीं पहुंचे ‘बाबा का ढाबा’ वाले कांता प्रसाद, रेस्टोरेंट में हुआ इतना घाटा, लोगों ने लगाई क्लास

दिल्ली के मालवीय नगर के बाबा का ढाबा के मालिक कांता प्रसाद को आज कौन नहीं जानता। पूरा देश उनके ढाबे और उनके नाम से वाकिफ है। बता दें कि पिछले साल लॉकडाउन के दौरान गौरव वासन ने उनकी वीडियो वायरल की थी जिसमें बाबा रोते हुए नजर आए थे कि उनकी दुकान नहीं चल रही है। बाबा के आंसुओं को देख लोगों की लंबी लंबी लाइन उनकी मदद के लिए लग गई। इतना ही नहीं इसके बाद उनका ढाबा ऐसा चला कि उनको बॉलीवुड स्टार तक के एड उनको मिले और साथ ही दान देने के लिए लोगों की लाइन लग गई। बाबा के पास काफी पैसा जमा हो गया था जिससे बाबा ने मकान बनाया और एक होटल खोला। लेकिन इससे पहले बाबा ने गौरव पर गंभीर आरोप लगाए।

लोगों ने सोशल मीडिया पर लगाई क्लास

80 साल की बाबा के ढाबे के मालिक कांता प्रसाद ने मदद के नाम पर गौरव द्वारा पैसे खाने का आरोप लगाया। लोगों ने बाबा की क्लास लगाई और कहा कि गौरव ने उनकी मदद की है और आज वो उन पर गलत इल्जाम लगा रहे हैं। कहा कि बाबा को घमंड हो गया है। फिर धीरे-धीरे बाबा की किस्मत पलटी फिर वह उसी जगह आ गए जहां पहले थे। लोगों ने कांता प्रसाद की सोशल मीडिया पर जमकर क्लास लगाई लोगों ने कहा कि इसे पैसे का घमंड हो गया था इसलिए वापस वही लौट आया है।

कांता प्रसाद के साथ सेल्फी लेने वालों की लंबी लंबी लाइन लग गई और साथ ही मीडिया वालों का भी वहां आना जाना शुरू हो गया था ।बाबा की लोगों ने पैसों से भी काफी मदद की जिससे बाबा ने मकान समेत अपना होटल खोला और साथ ही बच्चों के लिए फोन भी खरीदेहालाँकि इस साल फरवरी में उनका ये नया रेस्तरां बंद हो गया और प्रसाद और उनकी पत्नी अब अपने पुराने ढाबे पर वापस आ गए हैं, जहाँ बिक्री में वीडियो के बाद 10 गुना उछाल देखा गया था उसमें पिछले कुछ समय में भारी गिरावट आई है

प्रसाद ने कहा कि दिल्ली में कोविड -19 लहर जिसने 17 दिनों के लिए अपने पुराने ढाबे को बंद करने के लिए मजबूर किया जिसने बिक्री को प्रभावित किया, जिससे उन्हें फिर से गरीबी का सामना करना पड़ा। ‘हमारे ढाबे पर चल रहे कोविड लॉकडाउन के कारण दैनिक फुटफॉल में गिरावट आई है, और हमारी दैनिक बिक्री लॉकडाउन से पहले 3,500 रुपये से घटकर अब 1,000 रुपये हो गई है जो हमारे परिवार के लिए पर्याप्त नहीं है।’

ढाबा वर्तमान में केवल भारतीय भोजन जैसे चावल, दाल और दो प्रकार की सब्जियां परोसता है – वही मेनू जो जोड़े ने अपने ढाबे पर वायरल वीडियो से पहले उन्हें प्रसिद्धि दिलाई थी – दोपहर के भोजन के लिए और यह रात के खाने से पहले बंद हो जाता है।

दिसंबर में बहुत धूमधाम से अपना नया रेस्तरां खोला था

प्रसाद ने दिसंबर में बहुत धूमधाम से अपना नया रेस्तरां खोला था और पहले कुछ दिनों तक यह एक जोरदार सफलता थी। ढाबे के विपरीत, जहां प्रसाद ने अपने ग्राहकों के लिए रोटियां बनाईं, वह और उनकी पत्नी और उनके दो बेटे एक नए चमचमाते काउंटर के पीछे बैठे, अपने कर्मचारियों के रूप में भुगतान एकत्र कर रहे थे दो रसोइये और वेटर ग्राहकों की सेवा करने में लगे थे, थोड़ी देर के लिए, ऐसा लग रहा था कि वृद्ध की पीड़ा अतीत की बात है। शुरुआती उत्साह के बाद कस्टमर धीरे-धीरे गायब होने लगे और जल्द ही, खर्च आय से अधिक हो गए।

रेस्टोरेंट में 5 लाख का निवेश किया, कही ये बात

प्रसाद ने कहा कि उन्होंने रेस्तरां में ₹5 लाख का निवेश किया और तीन श्रमिकों को काम पर रखा। मासिक खर्च लगभग एक लाख था। 35,000 किराए के लिए; 36,000 तीन कर्मचारियों के वेतन का भुगतान करने के लिए; और 15,000 बिजली और पानी के बिलों के लिए, और खाद्य सामग्री की खरीद के लिए। ‘लेकिन औसत महीने की बिक्री कभी 40,000 रुपये से अधिक नहीं हुई। सारा नुकसान मुझे उठाना पड़ा। अंत में, मुझे लगता है कि हमें एक नया रेस्तरां खोलने की गलत सलाह दी गई थी।’

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here