उत्तराखंड : होम आईसोलेशन में रह रहे कोरोना संक्रमितों के लिए सरकार ने उठाया बडा़ कदम

देहरादून– राज्य में बढ़ती कोविड-19 मरीजों की  बढ़ती संख्या को देखते हुए होम आइसोलेशन में रहकर उपचार करने वाले रोगियों की संख्या में अत्यधिक वृद्धि हो रही है। पूर्व में होम आइसोलेशन उपचार कर लेने वाले रोगियों को कॉल सेंटर द्वारा समय-समय पर फोन करते हुए उनकी सेहत व जरूरत के संबंध में जानकारी प्राप्त कर ली जा रही है, किंतु शासन के संज्ञान में आया है कि हम आइसोलेशन में उपचार ले रहे रोगियों को किसी मेडिकल काउंसलर के माध्यम से परामर्श उपलब्ध कराना भी प्रभावी उपचार के लिए आवश्यक होगा इसलिए फोन आइसोलेशन की संस्तुति की गई रोगियों को समय समय ओम आइसोलेशन किट का वितरण हो रहा है अथवा नहीं है।

ज्ञात करने और उन्हें बुनियादी मेडिकल काउंसलिंग उपलब्ध कराए जाने के उद्देश्य से स्वास्थ्य मॉनिटरिंग उद्देश्य से एस ओ पी का निर्धारण किया जाना प्रस्तावित है जिसके तहत किसी भी प्रकार के कोविड-19 पॉजिटिव पाए गए रोगियों की सूची स्वास्थ्य विभाग द्वाराप्रतिदिन नोडल अधिकारी होम आइसोलेशन व संबंधित जनपद के जिला अधिकारी को उपलब्ध कराई जाएगी इसके अलावा जिलाधिकारी द्वारा प्रत्येक होम आइसोलेशन में रखे गए रोगियों को एक मेडिकल काउंसलर आवंटित किया जाएगा इस आवंटन में निर्धारण किए गए मेडिकल काउंसलर का नाम व फोन नंबर की जानकारी होगी इसके लिए जनपद में तैनात एलोपैथिक चिकित्सक फार्मासिस्ट नर्सिंग स्टाफ आयुष चिकित्सक फार्मासिस्ट व नर्सिंग स्टाफ दंत चिकित्सक प्रदेश के राजकीय विभिन्न मेडिकल कॉलेज के पीजी स्कॉलर्स राजकीय मेडिकल कॉलेज के ऐसे स्टाफ जुड़े कार्य करने में सक्षम हो तथा योग्यता धारण करने वाले सेवा निर्मित निजी क्षेत्र में कार्य करने वाले व्यक्ति इनकी सूची जिलेवार नोडल अधिकारी ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट द्वारा जिले को उपलब्ध कराई जाएगी जिलाधिकारी सूची में उल्लेखित अथवा अन्य जिलों में उपलब्ध मेडिकल काउंसलर का आवंटन प्रत्येक रोगी को उसके निवास स्थान का विचार करते हुए करेंगे एक मेडिकल काउंसलर को प्रतिदिन की मॉनिटरिंग के लिए अधिकतम 50 रोगियों तक की संख्या व ही सीमित करने का प्रयास किया जाएगा मेडिकल काउंसिल प्रतिदिन दूरभाष पर अथवा वीडियो कॉल के माध्यम से पूर्व में निर्धारित प्रोटोकॉल के आधार पर रोगी की स्वास्थ्य संबंधी जानकारी ली जाएगी उसे आवश्यकतानुसार चिकित्सा परामर्श व पूर्व निर्धारित प्रोटोकॉल द्वारा दी गई जानकारियों का संकलन संबंधित मेडिकल काउंसिल द्वारा रखा जाएगा वहीं मेडिकल काउंसिल आज यह सुनिश्चित करेगा कि बीमार व्यक्ति को उसके निवास स्थान पर होम आइसोलेशन किट व यथासंभव आयुष किट उपलब्ध करा दी गई है या नहीं किसी रोगी के स्वास्थ्य में गिरावट होने की स्थिति में मेडिकल काउंसिल द्वारा संबंधित जिले के कोविड-19 सेंटर व संबंधित ग्राम स्तरीय निगरानी समिति को सूचित कर दिया जाएगा जिला स्तरीय कुवैत कंट्रोल सेंटर की जिम्मेदारी होगी कि मेडिकल सलाह के अनुसार दवाइयों व उपचार की व्यवस्था करेंगे एंबुलेंस के माध्यम से प्रभावित रोगी को कोविड-19 में अग्रिम उपचार के लिए भेजा जाएगा किसी रोगी का आइसोलेशन अवधि पूर्ण होने के उपरांत मेडिकल काउंसलर उससे स्वास्थ संबंधी पैरामीटर सुरक्षित होने की दशा में उसकी मॉनिटरिंग समाप्त कर देंगे उस रोगी विषय से तू समाप्ति की सूचना दी जाएगी और रोगी के संदर्भ में आवश्यक सूचनाएं संबंधित मेडिकल काउंसलर अपने पास सुरक्षित रखेंगे प्रत्येक मेडिकलकाउंसिल द्वारा रोगी के स्वास्थ्य की रिपोर्टिंग कॉल सेंटर से फोन पर की जाएगी यह रिपोर्टिंग हर पूरे 10 दिन के मॉडलिंग समय काल में किसी भी रोगी विशेष हेतु दूसरे दिन छठवें दिन में 11 दिन पर होगी प्रत्येक जनपद के मेडिकल काउंसलर की सहायता के लिए जनपद स्तरीय विशेषज्ञ चिकित्सक को नोडल अधिकारी नामित किया जाएगा विशेषज्ञ चिकित्सक जिले के कंट्रोल रूम में उपलब्ध रहेंगे और मेडिकल काउंसिल और द्वारा संदर्भित किए गए रोगियों के संदर्भ में स्वास्थ्य संबंधी परामर्श देंगे रोगियों के आवंटन किए जाने से पूर्व प्रत्येक मेडिकल काउंसलर के द्वारा ऑनलाइन परीक्षण कराया जाएगा इसकी जिम्मेदारी कुलपति मेडिकल यूनिवर्सिटी उत्तराखंड प्राचार्य दून मेडिकल कॉलेज देहरादून डॉ पंकज सिंह हेड आईडीएसपी की स्वास्थ्य मेडिकल काउंसलर को टेलीफोन बिल के भुगतान दस्तावेज के रखरखाव अन्य खर्चे हेतु प्रतिमा ₹1000 के रूप में अतिरिक्त दे होगा स्थानीय आवश्यकता अनुसार जिलाधिकारी इस व्यवस्था में सुसंगत परिवर्तन कर सकते हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here