उत्तराखंड : पिता करते दिहाड़ी-मजदूरी, बेटी का हेल्थ केयर ऑफिसर के पद पर चयन

लालकुआं- म्हारी छोरी किसी छोरे से कम हे के…ये डायलॉग आपने दंगल फिल्म में सुना जो की काफी हिट हुआ औऱ चर्चाओं में है लेकिन इस डायलॉग को साकार किया लालकुआ की बेटी निर्मला कोहली ने। जी हां नैनीताल के लालकुआं कोतवाली क्षेत्र से लगे बिन्दुखत्ता के घोड़ानाला निवासी दिहाड़ी मजदूर चंदन राम कोहली पूरी जिंदगी हाड़तोड़ मेहनत करते रहे, ताकि परिवार को पाल सकें। वहीं दूसरी ओर मेहनत के बल पर मजदूर की बेटी निर्मला कोहली मेहनत और संघर्ष से वो मुकाम हासिल किया कि जिससे प्रदेश भर को बेटियों पर गर्व हो रहा है। जी हां निर्मला कोहली ने परेशानी में समय गुजारा लेकिन हार नहीं मानी। कड़ी मेहनत करके निर्मला का चयन हेल्थ केयर ऑफिसर के पद पर हुआ है।

लालकुआं के बिंदुखत्ता के घोड़ानाला निवासी मजदूर चंदन राम किसी तरह गुजर बसर कर अपने बच्चों को पढ़ा पाते थे बिटिया निर्मला का बचपन भी पिता के संघर्षों को देखकर ही बीता और पढ़ाई में होनहार पांचवी पास के बाद बिटिया निर्मला ने नवोदय विद्यालय का फॉर्म भरकर प्रवेश परीक्षा पास कई जिसके बाद वहां उनका सिलेक्शन हो गया। जिसके बाद बारहवीं तक निर्मला ने नवोदय विद्यालय में पढ़ाई की हाउस आउट होने के बाद नैनीताल बीडी पांडे से बीएससी नर्सिंग की डिग्री हासिल की। वहीं बीएससी की पढ़ाई के दौरान ही निर्मला का चयन देहरादून के मैक्स अस्पताल में नर्सिंग ऑफिसर के पद पर हुआ और पिछले दिनों उनका चयन हेल्थ केयर ऑफिसर के पद पर हुआ है।

वहीं निर्मला की इस उपलब्धि पर परिवार में खुशी की लहर है। परिवार को नाज है अपनी बेटी पर। वहीं लालकुआं क्षेत्र में खुशी की लहर है।निर्मला को बधाई देने वालों का तांता लगा हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here