CM तीरथ के लिए निर्दलीय समेत ये विधायक सीट छोड़ने को तैयार, इन 7 सीटों में से किसी एक से फूंक सकतें हैं चुनाव का बिगुल?

देहरादून। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के लिए 10 सितम्बर की तारीख बहुत ही महत्वपूर्ण है क्योंकि सीएम तीरथ सिंह रावत को 10 सितंबर से पहले विधायकी का चुनाव जीतना जरूरी है। सबकी निगाहें इस पर टिकी है कि आखिर सीएम तीरथ सिंह रावत किस सीट से चुनाव लड़ते हैं. आपको बता दें कि इसके लिए मुख्यमंत्री को किसी भी एक विधान सभा सीट से उपचुनाव जीतना होगा। मुख्यमंत्री के लिए अब तक 6 विधायक सीट छोड़ने के लिए तैयार हैं,जिनमे एक विधायक निर्दलीय भी है। और एक साथ में सीट भी है जो कि खाली पडी़ है।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने बताया कि अब तक 6 विधायकों ने उन्हें लिखित में मुख्यमंत्री के लिए सीट छोड़ने के लिए पत्र दिया है। जिसमें एक निर्दलीय विधायक भी है,साथ ही 4 विधायक पौड़ी लोकसभा सीट से ही है।

ये सीट छोड़ने के लिए तैयार

कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत : कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत पहले कई बार अपनी सीट सिम के लिए छोड़ने की बयान दे चुके हैं। उन्होंने यह भी कहा था कि वह लोकसभा का चुनाव लड़ना चाहते हैं। उम्मीद जताई जा रही है कि अगर वह सीएम के लिए अपनी सीट छोड़ते हैं तो फिर वह गढ़वाल सीट से लोकसभा का चुनाव

हरक सिंह रावत के साथ ही लैंसडान से भाजपा विधायक दिलिप रावत,यमकेश्वर से ही भाजपा विधायक रितू खंडूरी,और बद्रीनाथ से भाजपा विधायक महेंद्र भट्ट भी सीट छोड़ने के लिए तैयार। धर्मपुर विधायक विनोद चमोली और भीमताल से निर्दलीय विधायक राम सिंह कैंडा भी सीट छोड़ने के लिए तैयार हैं।

विधायक के निधन के बाद गंगोत्री विधानसभा सीट खाली

वही बता दें कि बीते दिनों सीएम तीरथ सिंह रावत गंगोत्री दौरे पर गए थे जहां एकमत एक मन से कई कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों ने सीएम को गंगोत्री से चुनाव लड़ने के लिए कहा था बता दें कि गंगोत्री विधायक गोपाल रावत का निधन हो गया है इसके बाद वे सीट खाली हो गई है इसलिए वहां के पदाधिकारियों कार्यकर्ताओं नेताओं ने सीएम तीरथ सिंह रावत को गंगोत्री सीट से चुनाव लड़ने की अपील की है। कयास लगाए जा रहे हैं कि सीएम गोत्र सीट से चुनाव लड़ सकते हैं और उनके दौरे का मुख्य कारण यह था।

कुल मिलाकर देखा जाए तो 6 विधायकों समेत गंगोत्री विधानसभा सीट को मिलाकर 7 सीटें हैं जहां से सीएम चुनाव लड़ सकते हैं। 6 विधायकों ने खुद सीएम को अपनी सीट छोड़ने के लिए कहा है और साथ ही गंगोत्री विधायक के निधन के बाद गंगोत्री सीटें खाली हो गई है जिसके बाद सीएम वहां से भी चुनाव लड़ सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here