रुड़की : कहने को तो तीन तलाक कानून एतिहासिक फैसला, महिला ने लगाई इंसाफ की गुहार, पुलिस मौन?

 

रुड़की : कहने को तो तीन तलाक कानून एतिहासिक फैसला है लेकिन उसके बाद से लगातार तीन तलाक के मामले सामने आए हैं। महिलाएं परेशान हैं वो अभी भी इंसाफ की गुहार लगा रही है। ताजा मामला रुड़की के गुलाब नगर का है जहां रहने वाली एक युवती का विवाह 23 ,जुलाई 2020 में बड़ी धूमधाम के साथ ज्वालापुर के एक युवक के साथ किया गया था। लेकिन उसके पति ने उस पर तरह तरह के आरोप लगाते हुए प्रताड़ित करके उसे तीन तलाक दे दिया जबकि इसके खिलाफ अब सख्त कानून बन चुका है। इसी को देखते हुए युवती ने हिम्मत ना हारी और तीन तलाक के बावजूद उसी घर मे रह कर अपना जीवन यापन कर रही है।

आपको बता दें कि ज्वालापुर कोतवाली में तीन तलाक का मुकदमा दर्ज होने के बाद भी अभी तक दहेज़ के लोभी पर कोई कार्यवाही नही हुई. हालांकि महिला का कहना है कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बनाये गए तीन तलाक के कानून की वजह से ही वह तलाक देने के बावजूद अभी तक अपने सुसराल में ही रह रही है। इसी बीच उसके सुसराल वाले उसके साथ मारपीट करते रहे हैं।

महिला ने आरोप लगाया कि हलाला के नाम पर उसके साथ रेप तक किया गया लेकिन अभी तक  महिला ने हिम्मत नहीं हारी और तलाक के बावजूद भी अपनी सुसराल में रहकर इंसाफ की गुहार लगा रही है।

वहीं इस सम्बंध में अभी तक पुलिस की तरफ से आरोपी लोगों पर कोई कार्यवाही नहीं होने से भी महिला दुखी है. महिला ने पुलिस ने इंसाफ की गुहार लगाई लेकिन पुलिस अभी तक कुछ नहीं कर पाई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here