आसमान से दुश्मनों के छक्के छुड़ाएंगे उत्तराखंड के सूरज, भारतीय वायुसेना में बने फ्लाइंग लेफ्टिनेंट

चंपावत : उत्तराखंड के एक और बेटे ने देवभूमि का मान देश भर में बढ़ाया है। देवभूमि का एक और लाल अफसर बनकर देश की रक्षा करेगा। उत्तराखंड का एक और लाल आसमानी वर्दी पहनकर आसमान से दुश्मनों के छक्के छुड़ाएगा. जी हां देवभूमि उत्तराखंड के चंपावत का बेटा भारतीय वायुसेना में अफसर बन गया है। परिवार में खुशी का माहौल है। चंपावत, लोहाघाट निवासी सूरज सिंह मेहरा भारतीय वायु सेना में फ्लाइंग लेफ्टिनेंट बन गए हैं। अब वो आसमान में उडा़न भरेंगे और लडाकू विमार को चलाएंगे।

आपको बता दें कि सूरज मेहरा 2019 में आइएएफ हैदराबाद से कमीशन प्राप्त हुए। सूरज मिडिल क्लास फैमिली से हैं। सूरज को बचपन से ही वायु सेना में जाने का शोक था। वर्तमान में वायुसेना स्टेशन फलोदी राजस्थान में तैनात सूरज की शुक्रवार को पदोन्नति हो गई। सूरज ट्रेनिंग के बाद भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमान उड़ा सकेंगे।

सूरज के पिता भारतीय सेना से सेवानिवृत्त सूबेदार

जानकारी मिली है कि सूरज मेहरा के पिता अर्जुन सिंह मेहरा भारतीय सेना से सेवानिवृत्त सूबेदार हैं और मां रजनी मेहरा गृहिणी हैं। सूरज ने अपनी प्राथमिक शिक्षा डीएवी पब्लिक स्कूल लोहाघाट से की.साथ ही 10वीं और 12वीं की शिक्षा सैनिक स्कूल बालाचड़ी (गुजरात) से हासिल की। 12वीं के बाद सूरज का चयन राष्ट्रीय रक्षा अकादमी पुणे में हुआ। खुशी जाहिर करते हुए सूरज ने अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता को दिया है, जिन्होंने इस कठिन राह में उनका हमेशा मार्गदर्शन किया। सूरज की उपलब्धि पर उनके स्वजनों एवं आस-पड़ोस में खुशी का माहौल है। सूरज की छोटी बहन मोनिका मेहरा पंतनगर कृषि विश्व विद्यालय से बीएससी कर रही हैं। स्वजनों ने बताया कि मोनिका भी काफी मेधावी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here