औली : रहस्मयी बनी बर्फ में दबे मिले मुंबई के पर्यटकों की मौत, कहां हैं दोनों के मोबाइल?

चमोली : औली में गोरसों में मिले दोनों पर्यटकों की मौत रहस्यमयी बनी हुई है। पुलिस ने ये तो पता लगा लिया है कि दोनों मुंबई के हैं लेकिन इनकी मौत केैसे हुई, इसका पता नहीं चल पाया है। पुलिस को तलाशी के दौरान इनके फोन भी बरामद नहीं हुए हैं। पुलिस को अब तक जानकारी मिली है कि दोनों मुंबई से घूमने औली आए थे और जीएमवीएन में ठहरे थे। पुलिस को बैग में जो नंबर मिले हैं वो ऑफ आ रहे हैं, इसलिए मृतकों के परिजनों से भी सम्पर्क नहीं हो पाया है। चमोली पुलिस ने मुंबई के वर्ली थाना पुलिस से सम्पर्क किया औऱ उनके परिजनों की इसकी सूचना दी। दोनों के शवों को मोर्चरी में रखवाया गया है और इनके परिजनों का इंतजार है।

शवों के पास से हुए थे दोनों के बैग बरामद

आपको बता दें कि बीते दिनों पहले औली से 4 किलोमीटर ऊपर गोरसों में शनिवार को वन विभाग को किसी पर्यटक ने  दो शवों के बर्फ में दबे होने की सूचना दी थी। पुलिस समेत एसडीआरएफ मौके पर पहुंची थी और शवों को रेस्क्यू किया था। साथ ही पुलिस को दोनों के पास से ही दो बैग बरामद हुए थे। दोनों के शवों को जोशीमठ लाया गया था।

दोनों पर्यटक मुंबई के थे, एक महिला और एक पुरुष शामिल

चमोली एसपी ने जानकारी दी कि दोनों पर्यटक मुंबई के थे और उनके नाम संजीव गुप्ता (50) औऱ सिम्सा गुप्ता(35) थे। बताया गया कि संजीव गुप्ता फ्लैट नंबर 2006, बीसवां फ्लोर, एमएचडीए कांप्लेक्स, गणपतराव मार्ग, वेस्ट मुंबई (महाराष्ट्र) के निवासी थे। जानकारी मिली कि दोनों जोशीमठ के जीएमवीएन गेस्टहाउस में ठहरे थे और 13 दिसंबर को औली गए थे। 15 को इन्हे रोपवे से ही वापस आना था लेकिन वो दो दिन औली में जीएमवीएन के गेस्ट हाउस में ठहरे।

नहीं मिले दोनों के मोबाइल

पुलिस को दोनों के मोबाइल बरामद नहीं हुए हैं। आईडी में मिले नंबर बंद आ रहे है। एसपी का कहना है कि घटनास्थल के आसपास बर्फ हटाने के बाद ही मोबाइल को लेकर कुछ कहा जा सकता है। बताया कि घटना की सूचना मुंबई के वर्ली थाने को दी गई है। कोतवाली प्रभारी राजेंद्र खोलिया का कहना है कि होटल के रजिस्टर में महिला का नाम सिम्सा संजीव गुप्ता दर्ज है। स्वजन के आने के बाद ही युवती व मृतक के बीच संबंधों की स्थिति स्पष्ट हो पाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here