पूरी हो गई तीर्थपुरोहितों की मांग, CM धामी ने किया देवस्थानम बोर्ड भंग करने का एलान

देहरादून : उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड को लेकर बड़ी खबर है। ये खबर तीर्थपुरोहितों के लिए खुशी भरी है है।  जी हां बता दें कि उनकी लंबे समय से चली आ रही मुराद पूरी हो गई है। सीएम पुष्कर सिंह धामी ने देवस्थानम बोर्ड को भंग करने का ऐलान कर दिया है। फिलहाल एएनआई के हवाले से ये खबर है कि सीएम धामी ने देवस्थानम बोर्ड भंग करने का ऐलान किया है। सीएम धामी ने कहा कि देवस्थानम बोर्ड पर गठित उच्च स्तरीय समिति एवं मंत्रिमंडलीय उप समिति की रिपोर्ट के बाद सरकार ने ये निर्णय।

हम इस अधिनियम को वापस ले रहे हैं-सीएम धामी

सीएम धामी ने एएनआई को दिए बयान में कहा कि मनोहर कांत ध्यानी जी ने एक उच्च स्तरीय कमेटी बनाई थी। उस कमेटी ने भी अपनी रिपोर्ट दी है। जिस पर हमने विचार करते हुए निर्णय लिया है कि हम इस अधिनियम को वापस ले रहे हैं। आगे चल कर हम सभी से बात करते जो भी उत्तराखंड राज्य के हित में होगा उस पर कार्रवाई करेंगे।

देवस्थानम प्रबंधन अधिनियम और बोर्ड को लेकर तीर्थ पुरोहितों के विरोध के मद्देनजर उनकी शंकाओं के समाधान के लिए सरकार ने राज्य सभा के पूर्व सदस्य मनोहरकांत ध्यानी की अध्यक्षता में उच्च स्तरीय समिति गठित की थी। बीते रोज समिति ने अपनी अंतिम रिपोर्ट मुख्यमंत्री को सौंपी। मुख्यमंत्री ने समिति की रिपोर्ट का अध्ययन करने के लिए धर्मस्व मंत्री सतपाल महाराज की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय मंत्रिमंडलीय उपसमिति गठित की। समिति के अन्य सदस्यों में कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल व स्वामी यतीश्वरानंद शामिल किए गए। उपसमिति को दो दिन के भीतर संस्तुति सहित परीक्षण रिपोर्ट देने को कहा गया था।

सोमवार को उपसमिति की फिर बैठक हुई, जिसमें उच्च स्तरीय समिति की अध्ययन रिपोर्ट के सभी बिंदुओं पर गहन चर्चा की गई। इसके बाद शाम को कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज ने मुख्यमंत्री को उपसमिति की परीक्षण रिपोर्ट सौंपी और आज इसका ऐलान किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here