जोशीमठ में नए इलाके में भूधंसाव, तिरछे हुए बिजली के पोल्स और पेड़

joshimathजोशीमठ में भूधंसाव से हालात खराब होने लगे हैं। भूधंसाव से कई नए मकानों को खतरा हो गया है। इसके साथ ही पेड़ और हाईटेंशन वायर्स के लिए खंभे भी तिरछे हो गए हैं।

जोशीमठ में भूधंसाव लगातार बढ़ता जा रहा है। अब नए इलाकों में भी भूधंसाव का खतरा पैदा हो गया है। सुनील वार्ड में भी जमीन पर दरारें आनी शुरू हो गई हैं। मनोहर बाग वार्ड में सबसे तेज भू-धंसाव हो रहा है। यहां घरों में बड़ी बड़ी दरारें आ गईं हैं।

लोगों ने जो गोशालाएं बनाईं उनमें भी दरारें आ गईं जिससे गायों को भी वहां से हटाना पड़ा है। इसके साथ ही इस इलाके से गुजर रहे हाईटेंशन लाइन के खंभे भी तिरछे होने लगे हैं जिससे बड़े हादसे की आहट आ गई है। कई लोगों ने यहां से मकान छोड़ दिया और अन्य स्थानों पर शिफ्ट हो गए हैं। स्थानीय लोगों ने अपने खेतों में जो पेड़ पौधे लगा रखे थे वो भी अब गिरने की कगार पर हैं।

नगर पालिका की ओर से भू धंसाव से प्रभावित घरों के हर दिन का डाटा तैयार किया जा रहा है। जहां से भी मकान में दरार आने की सूचना मिल रही है वहां कर्मचारियों को भेजकर उनकी स्थिति को देखने के बाद सूची में दर्ज किया जा रहा है। नगर पालिका से मिले डाटा के अनुसार सोमवार तक भू धंसाव से प्रभावित मकानों की संख्या 586 हो चुकी है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here