आईएमए पीओपी 2021 : बतौर रिव्यूइंग अफसर राष्ट्रपति कोविंद लेंगे परेड की सलामी

देहरादून : देश को जांबाज अफसर मिलने वाले हैं। जी हां बता दें कि देहरादून आईएमए में की 11 दिसंबर को पासिंग आउट परेड है जिसमे कई साल की कड़ी मेहनत के बाद कैडेट्स के कंधों पर सितारे सजेंगे और फिर वो देश की सेवा के लिए भेजे जाएंगे। 11 दिसंबर को 387 जेंटलमैन कैडेट अंतिम पग भरेंगे। इनमें 319 युवा भारतीय सेना का हिस्सा बनेंगे। जबकि दस मित्र देशों के भी 68 कैडेट पास आउट होंगे। राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द बतौर रिव्यूइंग अफसर परेड की सलामी लेंगे।

वहीं, चीफ आफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत व कई वरिष्ठ सैन्य अधिकारी भी इस दौरान मौजूद रहेंगे।साल 1932 में 40 कैडेट के साथ अकादमी का सफर शुरू हुआ था। प्रथम बैच में भारत के पूर्व फील्ड मार्शल सैम मानेकशॉ, म्यांमार के पूर्व सेनाध्यक्ष स्मिथ डन और पाकिस्तान के पूर्व सेनाध्यक्ष मोहम्मद मूसा पास आउट हुए थे।

तब से यह संस्थान जांबाज युवा अफसरों की फौज तैयार कर रहा है। खास बात यह कि अकादमी में मित्र देशों के भी कैडेट प्रशिक्षण लेते हैं। अब तक 60 हजार 725 कैडेट अकादमी से पास आउट हुए हैं। जिनमें 33 मित्र देशों के 2656 कैडेट भी शामिल हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here