उत्तराखंड समेत देश को झटका : नहीं रहे बिपिन रावत, इसी महीने दी गई थी उनको CDS की जिम्मेदारी

देहरादून : उत्तराखंड समेत देश के लिए बुरी खबर है। बता दें कि तमिलनाडू में हुए वायुसेना के विमान हादसे में 13 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है। बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत की भी इस हादसे में मौत हो गई है। इसकी पुष्टि इंडियर एयरफोर्स ने ट्वीट कर दी है। इससे उत्तराखंड समेत पूरे देश में शोक की लहर दौड़ गई है। राष्ट्रपति का कार्यक्रम पहले ही रद्द कर दिया गया था। बिपिन रावत और उनकी पत्नी के रिश्तेदारों को दिल्ली बुलाया गया था जिससे आशंका जताई जा रही थी कि कोई बड़ी अनहोनी हुई है। कुछ देर बाद दोनों की मौत की पुष्टि हो गई।

इसी महीने दी गई थी सीडीएस की जिम्मेदारी

आपको बता दें कि उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल में जन्मे बिपिन रावत के पिता लक्ष्मण सिंह रावत लेफ्टिनेंट जनरल थे। उन्होंने शिमला के सेंट एडवर्ड स्कूल और राष्ट्रीय रक्षा अकादमी खड़गवासला से पढ़ाई की है। दिसंबर 1978 में उन्हें भारतीय सैन्य अकादमी से गोरखा रायफल्स की 5वीं बटालियन में नियुक्ति मिली थी। यहां उन्हें स्वॉर्ड ऑफ ऑनर से सम्मानित किया गया था। सीडीएस जनरल बिपिन रावत को 31 दिसंबर 2019 को देश के पहले सीडीएस की जिम्मेदारी दी गई थी। उनके परिवार में पत्नी और दो बेटियां हैं।

सीडीएस का पद दिए जाने से पहले वह थल सेना के 27वें अध्यक्ष थे। इससे पहले एक सितंबर 2016 को उन्हें सेना का उप प्रमुख बनाया गया था। जनरल रावत की पत्नी मधूलिका रावत भी सेना से जुड़ी हुई हैं। वह आर्मी वूमेन वेलफेयर एसोसिएशन की अध्यक्ष हैं। जनरल रावत की दो बेटियां हैं। उन्हें उत्कृष्ट सेवा के लिए की पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here