दोस्त के लिए पिता पर दुष्कर्म का लगाया था आरोप, कोर्ट ने कलंक हटाया

court

देहरादून में एक ऐसा मामला सामने आया है जिसे सुनकर सभी हैरान हैं। एक लड़की ने अपने दोस्त को बचाने के लिए अपने पिता पर ही दुष्कर्म का झूठा आरोप लगा दिया। अब कोर्ट ने पिता के माथे पर लगे इस कलंक को धो दिया है।

दरअसल ऋषिकेश कोतवाली में जुलाई 2020 में एक मुकदमा दर्ज कराया गया। इस मुकदमे में एक लड़की ने अपने पिता पर महीनों तक दुष्कर्म का आरोप लगाया।

मामला संगीन था और जांच शुरु हुई। यहां ये भी बता दें कि जिस लड़की ने अपने पिता पर दुष्कर्म का आरोप लगाया उसके पिता खुद कुछ महीने पहले दो लड़कों पर बेटी के साथ दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज करवा चुके थे।

बयानों से पलटी

मामला कोर्ट में गया और पुलिस ने जांच शुरु की। पीड़िता का मेडिकल और फिर मजिस्ट्रेटी बयान दर्ज कराए जाने लगे। कलमबद्ध बयानों में पीड़िता अपने मौखिक बयानों से पलट गई। पीड़िता ने फिर धीरे धीरे पूरा सच बताना शुरु किया। पता चला कि उसके पिता ने जिन दो युवकों पर दुष्कर्म का आरोप लगाया था उनमें से एक के साथ वो शादी करना चाहती थी।

उत्तराखंड। अनुसूचित जाति की भोजनमाता के हाथों का खाना खाने से छात्रों का इंकार

चूंकि पिता के आरोपों के बाद उन युवकों के फंसने की आशंका थी लिहाजा अपने दोस्तों को बचाने के लिए युवती ने अपने पिता के खिलाफ ही मुकदमा दर्ज करा दिया।

कोर्ट में ये सभी बातें सामने आईं। यहां तक युवती के बयानों में भी विरोधाभास दिखा। लिहाजा कोर्ट ने युवती के पिता को दुष्कर्म के आरोपों से बाइज्जत बरी कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here