उत्तराखंड। अनुसूचित जाति की भोजनमाता के हाथों का खाना खाने से छात्रों का इंकार

Mid-Day-Meal
Concept/file

टनकपुर के सूखीढांग में एक सरकारी स्कूल में मिड डे मील को लेकर विवाद हो गया है। बताया जा रहा है कि कुछ बच्चों ने अनुसूचित जाति की भोजनमाता के जरिए बनाए मध्यान्ह भोजन का बहिष्कार कर दिया है।

मीडिया में प्रकाशित खबरों के अनुसार सूखीढांग के जीआईसी में कुछ बच्चों ने अनुसूचित जाति की भोजनमाता के हाथों से बना हुआ खाना खाने से मना कर दिया। हफ्ते में कई दिनों तक यही स्थिती बनी रही। स्कूल प्रबंधन ने इस संबंध में बच्चों को समझाने की कोशिश की लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ।

उत्तराखंड चार धाम यात्रा के लिए फिलहाल पंजीकरण बंद

इसके बाद स्कूल प्रबंधन ने अभिभावकों की एक मीटिंग बुलाई और इस विवाद को सुलझाने की कोशिश की। लेकिन बावजूद इसके कोई फायदा नहीं हुआ। कई अभिभावकों ने खाना खाने की वजह जातिगत न बताते हुए निजी बताई।

काट दी टीसी

तमाम कोशिशों के बाद भी जब बच्चे खाना खाने के लिए तैयार नहीं हुए तो आखिरकार स्कूल प्रबंधन ने चेतावनी देते हुए स्कूल प्रशासन ने कुछ बच्चों की टीसी (स्थानांतरण प्रमाणपत्र) भी काट दी।

फिलहाल अखबारों में प्रकाशित प्रधानाचार्य के बयान के अनुसार इस पूरे विवाद के बारे में विभाग के उच्चाधिकारियों को जानकारी दे दी गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here