चश्मदीद बोला : मैं पूरी रात नहीं सोया, उन्होंने पानी मांगा था, फोटो देखकर पहचाना- वो रावत साहब थे

नई दिल्ली: बीते दिन तमिलनाडू के नीलगिरी के पास सेना का विमान क्रैश हुआ। जिसमे सीडीएस बिपिन रावत आर उनकी पत्नी सहित 13 लोगों की जान चली गई. घटनास्थल पर मौजूद प्रत्यक्षदर्शी शिव कुमार ने उस पल के बारे में बताया। शिव कुमार एक ठेकेदार हैं और जब हेलीकॉप्टर बुधवार दोपहर नीलगिरी में कुन्नूर के पास गिरा, उस समय वो अपने भाई से मिलने जा रहे थे. वह एक चाय बागान में काम करते हैं.

शिव कुमार का दावा है कि उन्होंने वायु सेना के हेलिकॉप्टर को गिरते और आग की लपटों में फूटते देखा. वह और अन्य लोग मौके पर भी पहुंचे थे. शिव कुमार ने एक निजी चैनल को बताया कि हमने तीन लोगों को गिरते देखा. उनमें एक आदमी जीवित था. उसने पानी मांगा. हमने उसे एक चादर में खींच लिया और उन्हें बचाव दल के लोग ले गए. वह कहते हैं कि तीन घंटे बाद किसी ने उन्हें उन्हें चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ की एक तस्वीर दिखाई और बताया कि जिस व्यक्ति से उन्होंने बात की वे जनरल बिपिन रावत थे.

इस आदमी ने देश के लिए इतना कुछ किया और उन्हें पानी भी नहीं दे पाया-चश्मदीद

शिव कुमार ने आंसू बहाते हुए कहा कि मुझे विश्वास नहीं हो रहा था कि इस आदमी ने देश के लिए इतना कुछ किया और उन्हें पानी भी नहीं दे पाया. मैं पूरी रात सो नहीं पाया. कथिततौर पर अस्पताल ले जाते समय जनरल बिपिन रावत की मौत हुई. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने संसद को बताया कि दुर्घटना की जांच के आदेश दिए गए हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here