बिना प्रलोभन-उकसावे में आए सोच-समझकर वोट देना, सबसे बड़ा राष्ट्रवाद- हरीश रावत

देहरादून : राज्य में लोकसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है. 11 अप्रैल को उत्तराखंड में पहले चरण में चुनाव है जिसकी तैयारियों में दोनों पार्टियां लग गई है. वहीं हरीश रावत मैदान से कहीं गायब से हैं. लेकिन हमेशा से सोशल मीडिया के जरिए विपक्षी पार्टी पर वार करने से एक बार फिर हरीश रावत नहीं चूके. हरीश रावत ने राज्य की कई समस्याओं औऱ मुद्दोॆ को गिनाते हुए मतदाताओं को इन्ही बिंदुओं को ध्यान में रखकर ही वो वोट करें.

हरीश रावत ने लिखी पोस्ट

हरीश रावत ने लिखा कि भारत के 130 करोड़ से अधिक भाई बहन राष्ट्रवाद के स्तंभ है, राष्ट्रवाद इन्हीं में निहित है और इन भाई बहनों के सम्मुख तेजी से बढ़ती बेरोजगारी, निरंतर घटते रोजगार, खेती और किसानों की बदहाली, बढ़ती हुई असहिष्णुता, नफरत, घृणा, महिलाओं पर बढ़ते हुए अत्याचार, निरंतर गिरती हुई अर्थव्यवस्था के बड़े सवाल हैं, जो इनके जीवन को कुप्रभावित कर रहे हैं, उसपर बुरा असर डाल रहे हैं। वर्ष 2019 के आम चुनावों से ही इन सवालों का हल निकलना है। बिना प्रलोभन व उकसावे में आए सोच-समझकर वोट देना सबसे बड़ा राष्ट्रवाद है। राष्ट्रवाद को एक पार्टी की जागीर बनाने की अपवित्र कोशिशों से सावधान रहें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here