जब योग शरीर में प्रवेश करता है तो रोग स्वत: बाहर हो जाते हैं: उप राष्ट्रपति

देहरादून- परमार्थ निकेतन में अंतरराष्ट्रीय योग महोत्सव में आए साधकों को संबोधित करते हुए उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कहा कि योग धर्म से नहीं जुड़ा है, हिंदू धर्म नहीं, बल्कि जीवन पद्धति है। यहां प्रकृति को पूजा जाता है। यहां विषधर सांप की भी पूजा की जाती है। इससे पहले उपराष्ट्रपति ने परमार्थ निकेतन स्वर्ग आश्रम में आयोजित अंतरराष्ट्रीय योग महोत्सव का उद्घाटन दीप प्रज्वलित कर किया।

योग शरीर में प्रवेश करता है तो रोग स्वत बाहर हो जाते

उप राष्ट्रपति ने कहा कि जब योग शरीर में प्रवेश करता है तो रोग स्वत बाहर हो जाते हैं। भगवान कृष्ण और गीता को याद करते हुए उन्होंने स्वामी चिदानंद को रोल मॉडल बताया। उन्होंने कहा कि जब हमें सोने की चिड़िया कहा जाता था तो गुलामी से पूर्व हमारे देश की जीडीपी दर 27.7 होती थी।

भारत ने हमेशा समूचे विश्व में शांति का संदेश दिया। शांति के लिए हाथ बढ़ाया भारत में कभी किसी देश पर हमला नहीं किया। भारत संस्कृति का देश है। यहां विकृति को जन्म नहीं दिया जाता है। उपराष्ट्रपति ने कहा कि योग का संबंध शरीर मन चित तीनों से है। योग साधक को एकाग्रता और सकारात्मकता का भाव जगाता है।

उन्होंने कहा कि उत्तराखंड की पानी हवा मिट्टी सभी तत्वों में योग बसा है। कहा, मेरा सौभाग्य है कि मुझे उत्तराखंड की तीर्थ नगरी ऋषिकेश के गंगा तट पर आने का अवसर मिला है। दिमाग जब चलायमान होता है तो योग इसे शांत करने का बेहतर साधन है। यही संदेश उत्तराखंड भारत देश से समूचे विश्व में फैल रहा है।

योग महोत्सव में विश्व का लघु रूप देखने को मिला- cm

इस अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि इस योग महोत्सव में विश्व का लघु रूप देखने को मिला है। योग मन चित्त और शरीर को स्वस्थ रखता है। आज विश्व में लोग तमाम संतापों से स्वयं को असहज और तनावयुक्त महसूस कर रहे हैं। योग विश्व को शांति और सुख देने का काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि योग भारत की अनमोल निधि है।

परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानंद सरस्वती ने इस महोत्सव में 94 देशों के योग शिक्षकों और साधकों को एक जगह पर लाकर सराहनीय काम किया है। कार्यक्रम में उत्तराखंड के राज्यपाल  के के पॉल, केंद्रीय पर्यटन राज्य मंत्री के जे अल्फोस, विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल, वन मंत्री डॉ हरक सिंह रावत, उच्च शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत , क्षेत्रीय विधायक रितु खंडूड़ी, योग गुरु गुरमुख कौर खालसा प्रेम बाबा आदि उपस्थित है।

आज सुबह उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू वायु सेना के विमान से जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर पहुंचे। यहां प्रदेश के राज्यपाल केके पॉल व प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत व अधिकारियों ने उनका स्वागत किया। एयरपोर्ट से उपराष्ट्रपति मुख्यमंत्री व राज्यपाल के साथ हेलीकॉप्टर एमआई-17 बैठकर ऋषिकेश की ओर रवाना हुए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here