आखिरी ऐसा क्या हुआ जो उसे फांसी लगानी पड़ी, रात को वो दो लोग कौन थे ?

उत्तरकाशी: उत्तरकाशी जिले के नागणी चिन्यालीसौड़ के एक होटल के कमरे में वनकर्मी को शव लटका मिला। संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत को हालांकि पुलिस आत्महत्या मानकर चल रही है, लेकिन क्या इसके पीछे कोई दबाव तो नहीं था। जिन दो लोगों ने उसके साथ खना खाया क्या उनसे तो कोई तार नहीं जुड़ा हुआ है। कुछ तो कारण रहा होगा जो वन विभाग के एक कर्मचारियों को फांसी लगाकर आत्महत्या करने के लिए मजबूर कर गया।

पुलिस की मानें तो जोगियाना भानियावाला देहरादून निवासी नरेंद्र सिंह टिहरी वन विभाग में वन रक्षक के पद पर लंबगांव में तैनात था। अपने परिवार के साथ वह सूलीठांग चिन्यालीसौड़ में किराए पर कमरा लेकर रहता था। बुधवार रात को वह चिन्यालीसौड़ आया तो नागणी स्थित एक होटल में कमरा लेकर ठहरा था। सुबह होटल के कर्मचारियों ने पुलिस को उसका शव पंखे से लटके होने की सूचना दी।

होटल कर्मचारियों के अनुसार रात को उसके साथ दो लोग और आए थे, जो खाना-पीना खाकर वहां से चले गए थे। सुबह करीब नौ बजे जब होटल कर्मचारियों ने दरवाजे को धक्का दिया, तो वह खुला था और भीतर नरेंद्र सिंह पंखे से लटका मिला। थानाध्यक्ष ने बताया कि प्रथम दृष्टया मामला आत्महत्या का लग रहा है। शव को पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल ले जाया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here