अपने संबोधन में क्या-क्या बोले अमित शाह

अमित शाह

देहरादून, संवाददाता। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने परिवर्तन यात्रा के रथों को रवाना करने से पहले भ्रष्टाचार, सर्जिकल स्ट्राइक, नोटों की कालाबाज़ारी के साथ ही वन रैंक वन पेंशन, खनन, शराब और भूमाफिया के अलावा हरीश रावत सरकार पर भ्रष्ट्राचार के आरोप लगाते हुए जमकर हमला बोला। भावनात्मक रुप से शहीदों, राज्य आंदोलनकारियों और इस राज्य के गठन के पीछे की बुनियादी भाजपा की सोच को बताना भी शाह नहीं भूले। भाषण के दौरान समूचे कांग्रेस समेत राहुल गांधी अमित शाह के खास टारगेट पर रहे।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह परिवर्तन यात्रा के उद्देश्य का ज़िक्र करते हुए कहा कि ये यात्रा समूचे उत्तराखंड में परिवर्तन का संदेश देने वाली है। राज्य आंदोलनकारियों को याद करते हुए कहा कि आंदोलनकारियों के बलिदान के बलबूते ये राज्य बना है। अपने भाषण के दौरान वो ये बताना नहीं भूले कि इस राज्य की रचना का समर्थन सबसे पहले पालमपुर में भाजपा ने ही किया था। उन्होंने कांग्रेस व सपा सरकार एक साथ हमला बोलते हुए कहा कि रामपुर तिराहाकांड भले ही मुलायम सिंह यादव के जमाने में हुआ हो लेकिन याद रखिए तब केन्द्र में कांग्रेस की सरकार थी। कांग्रेस का नाम लिए बिना अमित शाह ने कहा कि जो आज इस राज्य में राज कर रहे है वो तब इस राज्य को केन्द्र शासित प्रदेश बनाने पर अड़े थे।

राज्य सरकार पर हमला बोलते हुए शाह ने कहा कि सूबे का विकास रुक गया है और युवा
पलायन कर रहा है। भ्रष्टाचार ने उत्तराखंड में विकास के सारे रास्ते रोक दिए है। जनता ने जिन्हें 5 साल के लिए जनादेश दिया वो कांग्रेस शराब खनन और दिव्यांग अबलाओं पर अत्याचार करने पर तुली है। उन्होंने कहा यहां व्यापार उद्योग खत्म हो चुके है और एमलए का व्यापार चल रहा है। केन्द्र सरकार की पैरवी करते हुए अमित शाह ने कहा कि उत्तराखंड को केन्द्र हर साल 26 हज़ार करोड़ दे रही है बावजूद इसके विकास कही दिखाई नहीं दे रहा है।

भाषण के दौरान अमित शाह ने यूपीए सरकार पर भी हमला बोला। उन्होंने कहा कि जितने साल भी केन्द्र में यूपीए की सरकार रही वहां सिर्फ भ्रष्टाचार और घोटाले की ही बात सामने आई। टूजी, हेलीकॉप्टर, कोयला आदि के घोटालों में ही यूपीए का समय बीत गिया। अमित शाह ने कहा कि मोदी सरकार के ढाई सालों में एक भी भ्रष्टाचार का मामला सामने नहीं आया।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के 25 मिनट के भाषण में टारगेट पर यूपीए सरकार के कार्यकाल के अलावा सर्जिकल स्ट्राइक के मुद्दे पर राहुल की तल्ख टिप्पणी भी रही। शाह ने कालेधन के मुद्दे पर राहुल पर चुटकी लेते हुए कहा कि चार करोड़ की गाड़ी लेकर 4 हज़ार के नोट बदलवाने बैंक नहीं जाया जाता। शाह ने कहा कि वन रैंक वन पेंशन का मुद्दा इंदिरा गांधी के ज़माने से चला आ रहा है। फौजियों के खाते में 55 सौ करोड़ देने का काम मोदी सरकार ने किया।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here