उत्तराखंड: संकट में ग्रामीण, कोई नहीं ले रहा सुध, ये है पूरा मामला

लोहाघाट: गर्मी आते ही कई तरह की नई-नई दिक्कतें सामने आने लगती हैं। हालांकि, अभी गर्मी अपने चरम पर नहीं है, लेकिन लोगों की समस्याएं चरम पर पहुंचने लगी हैं। दिक्कतें होने लगी हैं। लोहाघाट ब्लॉक के कोइराला तोक में गर्मी शुरू होते ही पेयजल के लिए हाहाकार मचा है। तोक में रहने वाले 29 अनुसूचित जाति परिवार सड़क किनारे लगे एक मात्र हैंडपंप के सहारे हैं

आलम यह है कि पिछले कई सालों से पेयजल की समस्या के निदान की मांग कर रहे हैं, लेकिन सरकार या विभाग के द्वारा कोई भी पेयजल योजना नहीं बनाई गई है। ग्रामीणों ने कहा गांव के बच्चे, महिलाएं, युवा सवेरे से ही सड़क पर लगे हैंडपंप में काम-धाम छोड़कर पानी की जुगत में लग जाते हैं।

ग्रामीणों ने कहा हैंडपंप का जलस्तर कम होने के कारण वहां से भी ग्रामीणों को पानी नहीं मिल पा रहा है। ग्रामीणों ने कहा कई बार विभाग व प्रशासन से पेयजल योजना बनाने की गुहार लगा चुके हैं। लेकिन, कोई भी ग्रामीणों की बात सुनने को तैयार नहीं है। ग्रामीणों ने कहा अगर जल्द उनके लिए पेयजल योजना नहीं बनाई।

लोहाघाट एसडीएम रिंकू बिष्ट ने कहा तोक में पेयजल लाइन लाने के लिए जल संस्थान के अधिकारियों से बात की जाएगी। अधिकारियों को गांव में भेजा जाएगा। जल संस्थान के अभियंता पवन बिष्ट ने बताया कि जल जीवन मिशन के तहत किमतोली पेयजल योजना प्रस्तावित है। जहां से कोईराला तोक में पेयजल कनेक्शन दिया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here