उत्तराखंड : कोरोना संक्रमित मृतकों के अंतिम संस्कार के लिए एसडीआरएफ ने पहुंचाई सामग्री

देहरादून : प्रतिदिन कोविड महामारी के कहर से पीड़ित परिजन शवों के साथ रायपुर श्मशान में पहुँचते हैं और दाह संस्कार करते हैं, जहां तक शव को पहुँचाने एवम दाह संस्कार करने में एसडीआरएफ पुलिस भी हर सम्भव प्रयास करती आ रही है। आपदा हो या महामारी, एसडीआरएफ ने लोगों के दुख को कम करने में उनका साथ दिया।उत्तराखंड पुलिस की एसडीआरएफ परिजनों के दुख को समझते हुए उनकी मदद कर रही है।

नए प्रयासों में बल के द्वारा ऐसे सामाजिक संगठन जो अलग अलग प्रकार से सहायता करना चाहते हैं लेकिन स्पष्ट पथ न होने से मदद नहीं कर पा रहे थे। एसडीआरएफ सभी शवों के धार्मिक रीति रिवाजों से दाह संस्कार के लिए दाह संस्कार सामग्री पहुँचा रही है, जिसमे बड़ी संख्या में दाह संस्कार के दौरान प्रयोग होने वाली सामग्री और हांडी, देहरादून स्थित रायपुर श्मशान घाट में पहुँचाई गयी है। अनेक परिजन जो धार्मिक रीति रिवाजों के साथ अंतिम संस्कार के लिए सामग्री के लिए भटक रहे थे और परेशान थे। उस दर्द को कम करने का यह प्रयास किया गया है। धार्मिक मान्यताओं के साथ अंतिम संस्कार के लिए पण्डितजनों से भी एसडीआरएफ के द्वारा इस कार्य मे सहयोग मांगा गया। जिस में आगे आकर सहयोग प्रदान करते हुए दीपक तिवारी और अतुल मिश्रा सभी शवों का रीति रिवाजों के साथ विधिक मान्यताओं से अंतिम संस्कार कर रहे हैं, प्रक्रिया के दौरान कोविड SOP गाइडलाइंस का भी पूर्णतः पालन किया जा रहा है।

ज्ञातव्य हो कि सामाजिक संगठनों की मदद से ही SDRF टीम घाटों में शवों के साथ आये परिजनों को भी लगातार पानी की बोतल वितरित कर रही है। इसके अतरिक्त सम्पूर्ण उत्तराखंड में कोविड संक्रमित शवों के दाह संस्कार के लिए जनपदवार टीमों की नियुक्ति की गई है। वर्तमान समय तक 120 से अधिक कोविड संक्रमित शवों का दाह संस्कार SDRF बल द्वारा किया गया है। पूर्वतः सहायता के क्रम में SDRF सेनानायक नवनीत भुल्लर द्वारा शव के दाह संस्कार के साथ आये परिजनों के सहयोग के लिए यह नव पहल की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here