उत्तराखंड : पुलिस कांस्टेबल ने किया 12वीं के छात्र का अपहरण, ग्रामीणों ने पकड़ा, किया हंगामा

चंपावत : चंपावत के हैड़ाखान क्षेत्र में वर्दी की गुंडागर्दी का मामला सामने आया है। जी हां चंपावत हैड़ाखान में पुलिस कांस्टेबल द्वारा क्षेत्र के ही 12वीं के छात्र का अपहरण का मामला सामने आया है जिसके बाद गांव वालों ने जमकर हंगामा और पिकअप खड़ी कर कांस्टेबल की कार को रुकवा दिया। लोगों ने हंगामा करते हुए गांव के छात्र को छुड़ाया औऱ कांस्टेबल को भी पकड़ लिया। अभी तक ये जानकारी नहीं मिल पाई है कि कांस्टेबल छात्र को पकड़ने क्यों आया था. वहीं इस मालमे के बाद एसपी ने कांस्टेबल को निलंबित कर दिया है।

जानकारी मिली है कि इतने हंगामे के बाद वहां मौके पर कोई पुलिस और प्रशासन का कोई अधिकारी नहीं पहुंचा। जिसके बाद गुस्साए ग्रामीणों ने सोमवार को धरना-प्रदर्शन कर हैड़ाखान-खनस्यू मोटर मार्ग पर छह घंटे तक तक जाम लगा दिया।

12वीं के छात्र का अपरहण करने का आऱोप

मिली जानकारी के अनुसार हैड़ाखान इंटर कॉलेज का 12वीं के छात्र नीरज सिंह पुत्र तुला सिंह निवासी हैड़ाखान रविवार शाम सेना भर्ती की तैयारी के लिए अपने दोस्तों के साथ दौड रहा था। वहीं इस बीच वहां वर्दी में कार में एक पुलिस वाले ने उनसे माचिस मांगी। लेकिन नीरज ने माचिस न होने की बात कही। आरोप है कि कार सवार कांस्टेबल ने जबरन नीरज को कार में बैठाय और कार रौसिला की तरफ कार भगा दी। जिसके बाद दोस्तों ने गांव वालों को सारी बात बताई। गांववालों ने मौके पर पहुंचकर रौसिला में अपने परिचितों को इसकी जानकारी दी। जिसके बाद गांववालों ने पिकप बीच सड़क पर खड़ी कर दी और पुलिस वाले को पकड़ लिया।

रात भर नहीं पहुंचा कोई पुलिस अधिकारी

इसके बाद गांव वालों ने जब कांस्टेबल से पूछताछ की तो युवक ने बताया कि रीठा साहिब में तैनात है औऱ उसका नाम अजीम खान है। वहीं इसके बाद ग्रामीणों ने काठगोदाम पुलिस को सूचना दी। पुलिस के न पहुंचने पर ग्रामीणों ने रात में ही क्षेत्रीय पटवारी को मामले की जानकारी दी लेकिन मौके पर कोई नहीं पहुंचा। सोमवार सुबह ग्रामीणों ने विरोध में सड़क जाम कर दी। इसके बाद पुलिस और जिला प्रशासन के अधिकारी मौके पर पहुंचे। इसी बीच एसपी चंपावत लोकेश्वर सिंह ने कांस्टेबल के निलंबन का आदेश जारी कर दिया। इसके बाद ग्रामीणों ने जाम खोला।

कार में थी वर्दी और शराब की बोतलें

पूर्व प्रधान नवीन पलड़िया का आऱोप है कि पुलिस कांस्टेबल अजीम ने युवक के साथ मारपीट कर उसे जाने से मारने की धमकी दी। छात्र नीरज ने बताया कि अपहरण के बाद अजीम ने उसे खुद के पुलिस में होने की बात कही और शोर शराबा करने पर जान से मारने की धमकी दी। नीरज ने बतााया कि पुलिसवाले की कार में शराब की बोतलों थी औऱ वर्दी भी थी।

खुद को बताया विधायक का करीबी

नीरज का कहना है कि कांस्टेबल ने शोर मचाने पर उसे झूठे मामले में फंसाने की धमकी भी दी।गांववालों ने कांस्टेबल पर नशे में धुत्त होकर गाड़ी भगाने का आरोप लगाया है। बताया जा रहा है कि जब ग्रामीणों ने कांस्टेबल को पकड़ा तो उसने खुद को ऊधमसिंह नगर के एक विधायक का करीबी भी बताया। साथ ही उसने ग्रामीणों पर क्षेत्र में गो तस्करी करने के आरोप भी लगाया।

सड़क जाम करने से हैड़ाखान-खनस्यू मोटर मार्ग से गुजरने वाले वाहनों को करीब छह घंटे तक इंतजार करना पड़ा, जिससे यात्रियों को काफी परेशानी उठानी पड़ी। ग्रामीणों का कहना था कि अगर पुलिस और प्रशासन ने समय रहते कार्रवाई की होती तो जाम लगाने की जरूरत नहीं पड़ती।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here