उत्तराखंड : रात के अंधेरे में हाईवे पर होगी पेट्रोलिंग, ये है बड़ा कारण

 

देहरादून : राष्ट्रीय राजमार्गों पर सड़क दुर्घटनाएं लगातार हो रही हैं। इनको रोकने के लिए कई बार प्रयास किये जा चुके हैं, लेकिन हादसे रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं। रोजाना कोई ना कोई हादसा होता ही रहता है। इन्हीं सड़क हादसों को रोकने के लिए अब पुलिस और परिवहन विभाग मिलकर काम करेंगे। इसके लिए योजना तैयार कर ली गई है।

राज्य में पिछले कुछ सालों में सड़क हादसों की संख्या और इनमें मरने वालों का आंकड़ा लगातार बढ़ा है। अब तक की जांचों को शाधों में एक ही बात सामने आई है कि ज्यादातर हादसे तेज रफ्तार के कारण होते हैं। इसको देखते हुए सड़क सुरक्षा समिति ने राष्ट्रीय राजमार्ग और राज्य राजमार्ग पर दुर्घटनाएं रोकने के लिए विशेष हाइवे पेट्रोल दल गठित करने के निर्देश दिया था।

ट्रेफिक पुलिस में 1759 पदों पर भर्ती का प्रस्ताव शासन को भेजा गया। शासन ने 312 पदों को स्वीकृति दी है। इसके अलावा सड़क सुरक्षा समिति की ओर से जारी बजट में से भी पुलिस 34 पेट्रोलिंग कार, 50 सिटी बुलेट और आठ इंटरसेप्टर वाहनों के खरीद की तैयारी कर रही है। परिवहन विभाग सड़क सुरक्षा कोष से चार इंटरसेप्टर वाहन खरीद चुका है और चार नए वाहन खरीदने की तैयारी है। साथ ही 18 स्पीड राडार गन भी खरीदी जा रही हैं।

समिति के निर्देश के बाद पुलिस और परिवहन विभाग अलग-अलग मार्गों पर पेट्रोलिंग करेंगे। पेट्रोलिंग का यह काम दिनरूरात चलेगा। परिवहन विभाग में जांच के लिए विशेष प्रवर्तन दल की तैनाती की जाएगी। वहीं, पुलिस विभाग में यह शहरी क्षेत्रों में यह काम सिटी पेट्रोल यूनिट करेगी और अन्य क्षेत्रों के लिए विशेष दस्ते बनाए जाएंगे। परिवहन मंत्री यशपाल आर्य ने पुलिस व परिवहन विभाग को जल्द से जल्द हाई पेट्रोल दल का गठन करने और राज्य व राष्ट्रीय राजमार्गों पर पेट्रोलिंग के निर्देश जारी किए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here