उत्तराखंड : भाजपा विधायक के बयान पर सांसद ‘निशंक’ का पलटवार, कहा- सारे सबूत हैं!

रुड़की : एक ओर जहां भाजपा विधायक कुँवर प्रणव सिंह चैंपियन ने हरिद्वार लोकसभा सांसद पर करोड़ों रुपयों की लागत से किये गए शिलान्यास पर सवालिया निशान खड़े किए हैं तो वहीं आनन फानन में सांसद निशंक के प्रतिनिधि व प्रदेश सहमीडिया प्रभारी ओमप्रकाश जमदग्नि ने रूड़की के एक निजी होटल में प्रेस कांफ्रेंस कर उनके आरोपों को नकारते हुए कहा कि जिन जिन चीज़ों के शिलान्यास सांसद द्वारा किये गए है सभी के टेंडर हो चुके है जिसके सबूत उनके पास हैं।

जिन योजनाओं के शिलान्यास किये हैं वह कार्य जल्द ही पूरे भी होंगे-निशंक के प्रतिनिधि

हालांकि खुद निशंक ने बयान जारी नहीं किया लेकिन निशंक के प्रतिनिधि व प्रदेश सहमीडिया प्रभारी ओमप्रकाश जमदग्नि ने उनकी ओर से बयान दिया औऱ कहा कि सांसद ने जिन योजनाओं के शिलान्यास किये हैं वह कार्य जल्द ही पूरे भी होंगे…क्योंकि यह मनमोहन सिंह की सरकार नहीं बल्कि मोदी की सरकार है और उन कार्यों पर आचार संहिता का भी कुछ प्रभाव नहीं पड़ेगा। कहीं ना कहीं आनन फानन में सांसद के प्रतिनिधि द्वारा की गई प्रेस वार्ता से लगने लगा है कि भाजपा में दिखी गुटबाजी तेज़ी से उभर कर सामने आने वाली है।

गौर हो की बीते दिन सोमवार को खानपुर विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन ने इस बार पूर्व सीएम हरीश रावत के अलावा अपनी ही पार्टी के सांसद डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक के खिलाफ भी मोर्चा खोल दिया है। उन्होंने दोनों को प्रवासी पक्षी बताते हुए कहा कि हरिद्वार की जनता इस बार स्थानीय प्रत्याशी की मांग की।

सांसद डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक के विकास कार्यों पर सवाल उठाए

सांसद डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक के विकास कार्यों पर सवाल उठाते हुए उन्होंने कहा कि पांच साल तक वह जनता के बीच में नहीं रहे, अब एन वक्त पर शिलान्यास कर वह विकास का झूठा दावा कर रहे हैं। अब किए गए शिलान्यास कब धरातल पर आएंगे, सहज ही अनुमान लगाया जा सकता है।

उनकी पत्नी ही चुनाव में हरीश रावत को हरा सकती है- विधायक

विकास कार्य पांच साल से होने चाहिए थे। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि यदि गठबंधन का प्रत्याशी आता है तो निशंक चुनाव नहीं जीत सकते हैं। उन्होंने दावा किया कि उनकी पत्नी ही चुनाव में हरीश रावत को हरा सकती है।

प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट का बयान

प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट ने लोस चुनाव के लिए पार्टी टिकट की इच्छा रखने वाले नेताओं को वाणी पर संयम रखने की नसीहत दी। साथ ही स्पष्ट किया कि किसी प्रकार के बयान जो पार्टी या सरकार के विरोध में दिए जाएंगे वे उन्हीं नेताओं के लिए आड़े आएंगे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here