उत्तराखंड ब्रेकिंग : पिता ने बेटी को बनाया हवस का शिकार, पुलिस की लापरवाही से फरार, घूस लेने का आरोप

हरिद्वार – रुड़की में रिश्तों को शर्मसार कर देने वाला एक बड़ा मामला सामने आया है, जंहा एक कलयुगी पिता ने पिता बेटी के रिश्ते को शर्मसार किया और शर्मों हया की सारी हदें पार करते हुए अपनी ही नाबालिग बेटी को हवश का शिकार बनाया। आपको बता दें ताजा मामला रूड़की के झबरेड़ा थाना क्षेत्र के भिस्तीपुर गांव से सामने आया है, जहां एक पिता ने अपनी ही नाबालिग बच्ची को अपनी हवस का शिकार बनाया है। लगातार पांच महीनों तक वह पिता अपनी ही नाबालिग बच्ची का यौन शोषण करता रहा। जब इसकी भनक उसके परिवार वालों को लगी और ग्रामीणों तक यह बात पहुंची तो उन्होंने थाने पहुंचकर लड़की के पिता के खिलाफ तहरीर दी और कड़ी कार्यवाही करने की मांग पुलिस से की। पुलिस ने लड़की के पिता के खिलाफ पॉक्सो एक्ट में मुकदमा दर्ज कर दिया।

पुलिस की लापरवाही आई सामने

वहीं लड़की का आरोप है कि इसके पिता बीते 5 महीनों से उसका यौन शौषन कर रहे हैं। क्योंकि लड़की की मां लॉकडाउन से पहले अपने गांव गई हुई थी जोकि रक्षाबंधन के त्यौहार पर वापस लौटी जिसकी जांच करने के लिए ग्रामीणों ने पुलिस को फोन किया जब पुलिस गांव में पहुंची।महिला से पूछा तो महिला ने बताया गया कि उनकी कोरोनावायरस की जांच पहले ही हो चुकी है जिसके पश्चात उसकी लड़की ने पुलिस को रोका और बताया गया की वह अपनी मम्मी के जाने के बाद से ही बहुत पीड़ित है। उसका पिता उसके साथ गंदे गंदे काम करता है। इस दौरान पुलिस की लापरवाही सामने आई है। गांव वालों ने बताया पुलिस ने उस वक्त पिता को धमकाया और  चली गई। पीड़िता ने आरोप लगाया है कि पुलिस से शिकायत की लेकिन रिश्तेदार द्वारा पुलिस को पैसे दिए गए और पुलिस ने पीड़िता को मां के साथ वापस भेज दिया।

जानकारी मिली है कि उसके बाद जब पीड़ित लड़की अपने ताऊ के साथ थाने में पहुंची और अपने पिता के खिलाफ तहरीर दी जिसके बाद ही पुलिस ने आरोपी को पकड़ने की कोशिश की तो पता चला कि आरोपी पिता घर से पहले ही फरार है जिसके बाद पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर आरोपी की तलाश शुरु की। इस मामले में साफ तौर पर पुलिस की लापरवाही सामने आई है। पुलिस गांव पहुंची और सिर्फ बयान लेकर वापस आ गई। अगर उसी समय आरोपी पिता की तलाश की जाती तो हो सकता था अभी तक वो पुलिस की गिरफ्त में होता लेकिन पुलिस ने आरोपी को फरार होने का मौका दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here