उत्तराखंड: पैर फिसला और बंदूक का ट्रिगर दब गया, एक को लगी थी गोली, 3 ने खा लिया था जहर

टिहरी: पिछले दिनों टिहरी जिले के घनसाली के कुंडी गांव में गांव के कुछ दोस्त शिकार खेलने गांव गए थे। शिकार कांड के आरोपी राजीव उर्फ रजी ने बुधवार को सीजेएम कोर्ट में आत्मसमर्पण कर दिया। यह जानकारी अधिवक्ता रवि सेमवाल ने दी है। टिहरी में शिकार की तलाश में जंगल गए सात दोस्तों में से चार युवकों की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी।

साथ जंगल गए युवकों में से जिंदा बचे दो युवकों के अनुसार राजीव का पैर फिसलने से शिकारी की भरी बंदूक का ट्रिगर दबने से गोली ठीक पीछे चल रहे एक युवक की छाती में जा लगी और उसकी मौके पर ही मौत हो गई थी। अचानक हुई घटना से अन्य सभी युवक डर गए। तीन युवकों ने आनन-फानन में पास की एक छानी में जाकर जहर खा लिया। जबकि आरोपी बंदूक समेत फरार हो गया था।

राहुल और सुमित ने बताया कि गांव के ताना नामे तोक में बंदूक के साथ रजी आगे-आगे चल रहा था और उसके पीछे संतोष व अन्य लोग टार्च के सहारे जा रहे थे। अचानक रात करीब 11 बजे रजी का पैर फिसला, उसके कंधे पर रखी बंदूक का ट्रिगर दबा और पीछे चल रहे संतोष की छाती पर लग गई, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। साथ चल रहे सभी दोस्तों के होश उड़ गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here