उत्तराखंड: पहले बेटे, फिर पिता का अंतिम संस्कार, कई और लोग भी बीमार

कोटद्वार: कोरोना का कहर अब गांव-गांव से सामने आ रहा है। गांव के गांव कोरोना पाॅजिटिव पाए जा रहे हैं। हैरानी इस बात की है कि दूर-दराज के गांव तो दूर कोटद्वार के नगर निगम में नए शामिल किए गए गांवों में भी लोग बेमौत मारे जा रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग दावे तो घर-घर जाकर सर्वें और रैंडम सैंपलिंग की बात कर रहा है, लेकिन आलम यह है कि नगर निगम के वार्डों में भी अब तक सही से सैंपलिंग नहीं हो पाई है।

कलालघाटी क्षेत्र के वार्ड नंबर 34 उदयरामपुर गांव में बुखार से एक पिता और पुत्र समेत तीन लोगों की मौत से हड़कंप मचा है। बताया जा रहा है कि क्षेत्र में कई लोग बीमार हैं। कोरोना संक्रमण की आशंका से लोग भयभीत हैं। लोगों ने गांव में मेडिकल टीम भेजने और कोरोना जांच करवाने की मांग की है। दो दिन के भीतर तीन लोगों की मौत की सूचना पर स्वास्थ्य विभाग हरकत में आ गया है। सोमवार से क्षेत्र में मेडिकल टीम को सर्वे और टेस्टिंग के निर्देश दिए गए हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार शनिवार को उदयरामपुर में एक 37 वर्षीय युवक की घर पर ही मौत हो गई। वह कई दिन से बुखार से पीड़ित था। शनिवार को उसके पिता समेत परिजन उसका अंतिम संस्कार कर लौटे तो घर पहुंचते ही उनके (62) पिता की भी मौत हो गई। कोरोना संक्रमण के भय से लोग अंतिम संस्कार में शामिल होने से डरने लगे। परिजनों ने किसी तरह उनका भी कोटद्वार मुक्तिधाम में अंतिम संस्कार किया।

रविवार को भी गांव में एक युवक की बुखार के कारण मौत हुई है। एक ही परिवार और आसपास के क्षेत्र में तीन लोगों की मौत से गांव वाले घबराए हुए हैं। ग्रामीणों ने मामले की जानकारी पुलिस, प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग को दी है। बताया जा रहा है कि यहां एक परिवार में अप्रैल अंतिम सप्ताह में शादी समारोह हुआ था, जिसमें शामिल होने के लिए दिल्ली समेत बाहर से कई नाते रिश्तेदार आए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here