उत्तराखंड : साल 2000 में की थी 12वीं में चीटिंग, 18 साल बाद हुआ गिरफ्तार

आपको ये खबर पढ़कर जरुर हैरानी होगी…क्योंकि एक आरोपी चीटिंग करने के आरोप में 18 साल बाद गिरफ्तार हुआ. दरअसल चंपावत के टनकपुर निवासी महेश सिंह रावल सन 2000 में बोर्ड परीक्षा में नकल करते पाया गया जो 18 साल बाद पुलिस के हत्थे चढ़ा है। जो कि शनिवार को मुखबिर की सूचना पर बलांई पुल के पास से गिरफ्तार हुआ.

पुलिस ने आरोपी को दबोचने के लिए ढाई हजार रुपये का इनाम रखा

दरअसल उस समय उसे निजी मुचलके पर छोड़ दिया गया था। वर्ष 2005 में कोर्ट की ओर से उसे भगोड़ा घोषित किए जाने पर एसपी ने आरोपी पर 2500 रुपये का इनाम घोषित कर दिया था।शनिवार को आरोपी को न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में पेश किया गया, जहां से उसे जमानत मिल गई।

जीआईसी लोहाघाट में इंटरमीडिएट की व्यक्तिगत बोर्ड परीक्षा

थानाध्यक्ष मनीष खत्री ने बताया कि टनकपुर निवासी महेश सिंह रावल ने वर्ष 2000 में जीआईसी लोहाघाट में इंटरमीडिएट की व्यक्तिगत बोर्ड परीक्षा दी थी। इस दौरान वह नकल करते पकड़ा गया था, तब उसे निजी मुचलके पर छोड़ दिया गया था। आरोपी के खिलाफ 3/9 यूपी परीक्षा अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था। पांच साल बाद न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत की ओर से महेश को भगोड़ा घोषित किए जाने पर पुलिस ने आरोपी को दबोचने के लिए ढाई हजार रुपये का इनाम रखा था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here