उत्तराखंड ब्रेकिंग : एसएसजे परिसर के छात्र संघ अध्यक्ष दीपक उप्रेती ने दिया इस्तीफा

अल्मोड़ा : अल्मोड़ा के एसएसजे परिसर एक फिर से चर्चाओं में आ गया है। एसएसजे परिसर में शिक्षकों और छात्रसंघ के बीच तकरार कम होने का नाम नहीं ले रही है। एक बार फिर से गुरुओं और छात्र संघ के बीच तन गई है।

छात्र संघ अध्यक्ष ने दिया इस्तीफा

आपने बीते महीने में पेट्रोल प्रकरण के बारे में तो सुना और अखबारों में पोर्टलों में पढ़ा ही होगा जिसके बाद एक बार फिर से बवंडर कैंपस में हो उठा है। जी हां छात्र नेताओं के दबाव में पहले कुमाऊं विवि प्रशासन की ओर से किए गए बदलाव के बावजूद नवनियुक्त अधिष्ठाता छात्र कल्याण व कुलानुशासक को न हटाए जाने पर छात्र संघ अध्यक्ष ने इस्तीफा दे दिया है। उसने एक बार फिर संयुक्त निदेशक को निशाने पर ले अध्यक्ष पद से कार्यमुक्त करने की मांग उठाई है।

बता दें कि बीती 15 नवंबर को छात्र संघ अध्यक्ष दीपक उप्रेती ने खुद पर फिर परिसर निदेशक प्रो. आरएस पथनी पर पेट्रोल उड़ेल दिया था। तब उसे निलंबित कर मुकदमा दर्ज कराया गया। हालांकि, बाद में उसे जमानत मिल गई थी। इधर, कुलपति ने मामला शांत कराने के मकसद से प्रोफेसर पथनी को छुट्टी पर भेज प्रोफेसर जगत सिंह बिष्ट को संयुक्त निदेशक नियुक्त किया। साथ ही जांच कमेटी गठित की। बाद में प्रॉक्टर व डीएसडब्ल्यू को हटा प्रो. केसी जोशी को अधिष्ठाता छात्र कल्याण व डॉ. संजीव आर्या को कुलानुशासक नियुक्त कर दिया।

कुछ दिन मामला शांत रहने के बाद छात्र संघ ने नवनियुक्त कुलानुशासक व अधिष्ठाता छात्र कल्याण को हटाए जाने की जिद पकड़ ली। साथ ही संयुक्त निदेशक प्रो. जगत सिंह बिष्ट पर उन्हें न हटाने तथा गुटबाजी का आरोप लगा डाला। इस पर संयुक्त निदेशक ने छात्र संघ अध्यक्ष पर माहौल बिगाड़ने की तोहमत मढ़ पद व अभाविप से निष्कासित कराने की चेतावनी दे दी थी। इधर, छात्र संघ अध्यक्ष दीपक ने इस्तीफा दे दिया।

छात्र संघ अध्यक्ष दीपक उप्रेती का बयान

इस पर छात्र संघ अध्यक्ष दीपक उप्रेती का कहना है कि संयुक्त निदेशक कैंपस में माहौल बिगाड़ने का जिम्मेदार मुझे ठहरा रहे। संयुक्त निदेशक का अभाविप से निष्कासित करने की बात उचित नहीं है। मैं काम करने में असमर्थ हूं। जैसे पूर्व में मुझे अनुशासनहीनता पर निलंबित किया गया था। उसी तरह मुझे अब छात्र संघ अध्यक्ष पद से कार्यमुक्त कर दिया जाय।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here