शादी में अनोखी रस्म : दूल्हा-दुल्हन ने लिए आठ फेरे और आठ वचन, जानें क्यों ?

देहरादून: देहरादून जिले के विकासनगर से लगे अशोक के शिलालेख के लिए प्रसिद्ध कालसी में हुई शादी के चर्चे क्षेत्र में खूब हो रहे हैं। कालसी के खत फरटाड़ क्षेत्र के पिनगिरी गांव निवासी महावीर सिंह तोमर और समाल्टा गांव अंजू ने अपनी शादी में सात फेरों के अलावा एक अतिरिक्त फेरा भी लिया। ये आठवां फेरा था। इतना ही नहीं दोनों ने बचन भी सात के बजाय आठ लिए।

दोनों को आठवां फेरा और वचन पर्यावरण संरक्षण का था। उन्होंने सात फेरे लेने से पहले गांव में पौधरोपण किया। इसके बाद उन्होंने आठवें वचन के रूप में एक-दूसरे से पर्यावरण संरक्षण का संकल्प भी लिया। शादी से पूर्व हुई यह अनूठी रस्म चर्चा का विषय बनी हुई है।

दोनों ने संकल्प लिया कि वे दोनों जीवनभर पर्यावरण संरक्षण के लिए कार्य करते रहेंगे। दूल्हे का कहना है कि वो काफी समय से लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरूक तरते आए हैं। विधानसभा में सूचना अधिकारी भारत चैहान का कहना है कि पर्यावरण संरक्षण के लिए इस प्रकार की पहल सराहनीय है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here