राम मंदिर आंदोलन में सक्रिय रहीं उमा भारती क्यों भूमिपूजन से दूर हो गईं!

FILE

भारतीय जनता पार्टी की कद्दावर नेता और राम मंदिर आंदोलन में सक्रिय रहीं उमा भारती ने कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए अयोध्या में 5 अगस्त को होने वाले भूमि पूजन में शामिल न होने का फैसला किया है। इस दौरान वे सरयू तट पर ही रहेंगी और कार्यक्रम समाप्त होने के बाद राम लला के दर्शन करेंगी। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह  के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद उन्होंने यह फैसला लिया और इसकी जानकारी खुद अपने ट्विटर पर दी। बीजेपी नेता उमा भारती ने इस संबंध में राम जन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ अधिकारियों और प्रधानमंत्री कार्यालय से अपील की है कि वह 5 अगस्त को अयोध्या में राम मंदिर के स्थापना समारोह के लिए आमंत्रितों की सूची से उनका नाम हटा दें।

उमा भारती ने ट्वीट किया, ‘कल जब से मैंने अमित शाह जी तथा यूपी बीजेपी के नेताओं के बारे में कोरोना पोज़िटिव होने का सुना तभी से मैं अयोध्या में मंदिर के शिलान्यास में उपस्थित लोगों के लिए ख़ासकर नरेंद्र मोदी जी के लिये चिंतित हूं.’ उन्होंने बताया कि मैं आज भोपाल से अयोध्या के लिए रवाना होउंगी।

उन्होंने चिंता जताते हुए कहा कि इस कार्यक्रम में काफी लोग इकट्ठा हो रहे हैं ऐसे में मुझे प्रधानमंत्री मोदी व अन्य लोगों के स्वास्थ्य की चिंता है। मैं भूमि पूजन के स्थान से दूरी बनाकर रखूंगी और सभी के वहां से जाने के बाद राम लाल के दर्शन करूंगी। उन्होंने बताया कि इस संबंध में उन्होंने राम जन्मभूमि न्यास के अधिकारियों को जानकारी दे दी है।

बता दें कि रविवार को केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए। डॉक्टरों की सलाह पर उन्हें गुरुग्राम स्थित मेदांता अस्पताल में भर्ती किया गया है। अमित शाह ने ट्वीट करते कहा कि कोरोना के शुरुआती लक्षण दिखने पर मैंने टेस्ट करवाया और रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। मेरी तबीयत ठीक है परन्तु डॉक्टर्स की सलाह पर अस्पताल में भर्ती हो रहा हूं। मेरा अनुरोध है कि आप में से जो भी लोग गत कुछ दिनों में मेरे संपर्क में आए हैं, कृपया स्वयं को आइसोलेट कर अपनी जांच करवाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here