त्रिवेंद्र सरकार में अफसरों पर लगी लगाम, ट्रांसफर- पोस्टिंग का खेल भी हुआ बंद

उत्तराखंड में अफसरशाही पर अब धीरे धीरे सरकार की पकड़ नजर आने लगी है। अफसरों की ट्रांसफर पोस्टिंग का खेल भी त्रिवेंद्र सरकार में बंद पड़ा हुआ है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत अब खुद ही अफसरों की ट्रांसफर और पोस्टिंग का काम देखते हैं। ऐसे में ये माना जा सकता है कि सरकार की पकड़ सिस्टम पर अब बनने लगी है।

दरअसल उत्तराखंड हमेशा से अफसरों के लिए जन्नत सरीखा रहा है। मनचाही पोस्टिंग और मनचाहा ट्रांसफर पाना अफसरों के लिए चुटकियों का काम हुआ करता था। सरकार को अफसर चलाया करते थे न कि अफसरों को सरकार लेकिन राज्य में त्रिवेंद्र सरकार बनने के बाद इस परंपरा में आया बदलाव अब साफ दिखने लगा है। अफसरों को मनचाही पोस्टिंग नहीं बल्कि सरकार की दी हुई पोस्टिंग मिल रही है। त्रिवेंद्र सरकार आने के बाद ट्रांसफर पोस्टिंग के खेल पर भी लगाम लग गई है। जानकार बताते हैं कि इस खेल में ही लाखों के वारे न्यारे हो जाया करते थे। अफसर अपनी मनचाही पोस्टिंग के लिए सरकार पर दबाव बना कर रखते थे। सरकार भी उनके सामने नतमस्तक बनी रहती थी। यही वजह थी कि कई अफसर एक ही कुर्सी पर सालों तक जमे रहते थे। लापरवाही पर अफसरों के खिलाफ कार्रवाई न होना भी एक ऐसा रोग था जो उत्तराखंड में प्रशासनिक ढांचे को कमजोर कर रहा था। राज्य में त्रिवेंद्र सरकार बनने के बाद से अफसरों को सख्त सरकार के संदेश मिलने लगे हैं। एनएच घोटाले में दो अफसरों का निलंबन कर सरकार ने साफ कर दिया है कि लापरवाही की आशंका भी भारी पड़ सकती है।

फिलहाल त्रिवेंद्र सरकार में अफसर न सिर्फ अपनी प्रशासनिक जिम्मेदारी को निभा रहें हैं बल्कि अपने मातहत कर्मचारियों पर भी निगाह बनाए हुए हैं। हालांकि देखने वाली बात ये होगी कि सरकार ये पकड़ कब तक बना कर रखती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here