स्कूल का प्रिंसिपल बन गया ट्रेन चोर, इतना माल मिला कि प्लेटफार्म पर ही प्रेस कॉन्फ्रेंस करनी पड़ी

PRINCIPAL IN CUSTODY उत्तर प्रदेश के इटावा जिले में एक इंटर कॉलेज के बर्खास्त प्रिंसिपल को उसके बेटे के साथ ट्रेन यात्रियों से चोरी के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। उसके पास से लाखों रुपये का सामान बरामद हुआ है।

सामान इतना ज्यादा था कि राजकीय रेलवे पुलिस (GRP) को प्लेटफॉर्म पर ही प्रेस कॉन्फ्रेंस करनी पड़ी। आरोपियों को जीआरपी ने आगरा फोर्ट रेलवे स्टेशन पर नियमित जांच के दौरान गिरफ्तार किया। पिता-पुत्र की जोड़ी फिरोजाबाद जिले के निवासी हैं, लेकिन वे आगरा जिले के मधु नगर इलाके में किराए के मकान में रह रहे थे। उन्हें टीम ने नियमित निरीक्षण के दौरान आगरा फोर्ट रेलवे स्टेशन पर पूछताछ के लिए रोका था।

पूछताछ के दौरान आरोपी नरेश चंद ने बताया कि वह एसबीएस इंटर कॉलेज भरथना इटावा में प्रिंसिपल के पद पर तैनात था। तैनाती के दौरान वर्ष 2012 में छात्रों की छात्रवृत्ति गबन करने के आरोप में वह निलंबित कर दिया गया था। वर्ष 2017 में उसे सेवा से बर्खास्त कर दिया गया।

नरेश चंद ने खुलासा किया कि कॉलेज के प्रिंसिपल के रूप में पद से हटाए जाने के बाद उसने आपराधिक गतिविधियों का सहारा लिया। तब से वह अपने बेटे आर्यन के साथ ट्रेनों में चोरी-डकैती करने लगा। उन्होंने विशेष रूप से एसी कोच में यात्रा करने वाले यात्रियों को निशाना बनाया।

बर्खास्त प्रिंसिपल यात्री बनकर पुत्र के साथ ट्रेनों में यात्रा करता था। मौका मिलते ही उनका सामान लेकर स्टेशन पर उतर जाता था। उच्च शिक्षित और रहन-सहन से लोग उस पर शक नहीं करते थे। वह सहयात्रियों को इंस्पेक्टर के रूप में अपना परिचय देता था।

आरोपी ने बताया कि वो सुबह-सुबह एसी कोच में पहुंचता था। उस समय अधिकांश यात्री फ्रेश होने जाते हैं। ऐसे में वो उन यात्रियों का बैग और अन्य सामान चुराकर उतर जाता था। जब वो नौकरी से बर्खास्त हो गया तो उसने ट्रेन में चोरी को अपना पेशा बना लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here