टोक्यो ओलंपिक: भारत के दो पदक पक्के, हॉकी में जापान को हराया

टोक्यो ओलंपिक में आठवां दिन भी भारत के लिए शानदार रहा। लवलीना बोरगेहेन ने मुक्केबाजी में पहला पदक पक्का कर लिया है। उन्होंने महिलाओं की बॉक्सिंग की 69 किग्रा भार वर्ग स्पर्धा के सेमीफाइनल में जगह बनाई। बैडमिंटन में पीवी सिंधु भी सेमीफाइनल में पहुंचीं। वो ऐसी दूसरी खिलाड़ी होंगी, जो लगातार दो ओलंपिक में मेडल जीतेंगे। महिला हॉकी में भारत ने आयरलैंड को 1-0 से शिकस्त दी।

धावक अविनाश साबले तीन हजार पुरुषों की स्टीपलचेज स्पर्धा के फाइनल में जगह नहीं बना पाए, जबकि निशानेबाज मनु भाकर और राही सरनोबत महिलाओं की 25 मीटर एयर पिस्टल व्यक्तिगत स्पर्धा के फाइनल में जगह बनाने से चूक गईं। बॉक्सर सिमरनजीत कौर 60 किग्रा महिला भार वर्ग के अंतिम 16 मुकाबले में हार गईं। हालांकि तीरंदाजी में दीपिका कुमारी को क्वार्टर फाइनल में कोरियाई खिलाड़ी के हाथों हार का सामना करना पड़ा।

भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने पूल एक के आखिरी मैच में जापान को 5-3 से हरा दिया। यह टीम इंडिया की लगातार तीसरी जीत है। शुरू से ही भारतीय टीम आक्रामक नजर आ रही थी। हाफ टाइम तक भारत 2-1 से आगे था। इसके ठीक बाद 31वें मिनट में जापान ने गोल दागा और स्कोर को 2-2 की बराबरी पर ला दिया। इसके तुरंत बाद भारत ने 34वें मिनट में एक और गोल दागकर जापान पर 3-2 की बढ़त बना ली। 51वें मिनट में नीलकंठ ने भारत की तरफ से गोल किया। इसके साथ ही टीम इंडिया जापान पर 4-2 की बढ़त बना ली है। वहीं, 56वें मिनट में गुरजंत ने गोलकर टीम इंडिया को 5-2 की बढ़त दिलाई। वहीं, खेल के 59वें मिनट में जापान ने गोल किया। इसके बाद फुलटाइम आ गया और भारत यह मुकाबला 5-3 से अपने नाम कर लिया। इस जीत के साथ ही टीम इंडिया पूल ए में दूसरे स्थान पर रही और अब एक अगस्त को क्वार्टरफाइनल में उसका मुकाबला ग्रुप बी के तीसरे स्थान की टीम से होगा।

भारतीय स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ने जापान की अकाने यामागुची को 21-13, 22-20 से हरा सेमीफाइनल में अपनी जगह पक्की कर ली है। इसके साथ ही बैडमिंटन में भारत का पदक पक्का हो गया है।  सुस्त शुरुआत के बाद सिंधु ने लय पकड़ी। पहले गेम में जापान की अकाने यामागुची ने जोरदार टक्कर दी। दोनों खिलाड़ियों के बीच जबदस्त मुकाबला देखने को मिला। पहला गेम पीवी सिंधु ने 21-13 से जीता। यह गेम 23 मिनट तक चला। दूसरे गेम में सिंधु और यामागुची में जोरदार टक्कर चली। दोनों के बीच लंबी रैलियां हुईं। दोनों एक दूसरे से आगे निकलने की कोशिश में थीं। हैं। फिर यामागुची 20-18 से आगे हो गई हैं। इसके बाद फिर स्कोर 20-20 से बराबर हो गया। इसके ठीक बाद सिंधु ने शानदार वापसी करते हुए यामागुची पर बढ़त बनाई।

भारत की बॉक्सर लवलीना बोरगोहेन ने टोक्यो ओलंपिक में इतिहास रच दिया। वह सेमीफाइनल में पहुंच गई हैं। उनके सेमीफाइनल में पहुंचने के बाद भारत का एक और पदक पक्का हो गया है। क्वार्टर फाइनल में लवलीना ने महिलाओं की 69 किग्रा भार वर्ग में चीनी ताईपे की खिलाड़ी निएन चिन चेन को 4-1 से करारी शिकस्त दी। टोक्यो ओलंपिक में भारतीय महिला हॉकी टीम ने आज अपनी जीत का खाता खोल लिया। आयरलैंड के खिलाफ खेले गए मैच में रानी रामपाल की अगुवाई वाली टीम ने 1-0 से जीत दर्ज की। इस जीत  के साथ भारत की क्वार्टर फाइनल में पहुंचने की उम्मीद बरकरार है। मैच में भारत की तरफ से 57वें मिनट में नवनीत कौर ने गोला दागा।

विश्व की नंबर एक तीरंदाज दीपिका कुमारी तीसरा सेट भी हार गईं। उनकी हार के बाद भारत की पदक जीतने की उम्मीदों को तगड़ा झटका लगा। दीपिका अब पदक की रेस से बाहर हो गई हैं। क्वार्टर फाइनल में दीपिका को कोरिया की आन सन ने 6-0 से हराया। दीपिका ने तीसरे सेट में 7, 8, 9 का स्कोर किया। वहीं, कोरियाई खिलाड़ी 8, 9, 9 का स्कोर करने में सफल रही। विश्व की नंबर 1 तीरंदाज दीपिका कुमारी इस मुकाबले में बिलकुल लय में नहीं दिखीं। उन्होंने मैच में सिर्फ दो बार 10-10 का स्कोर किया। जबकि आन सन ने तीन बार 10-10 का स्कोर बनाया।

निशानेबाज मनु भाकर ने एक बार फिर निराश किया। वह महिलाओं की 25 मीटर एयर पिस्टल स्पर्धा के फाइनल में जगह बनाने से चुक गईं। उन्हें फाइनल में जाने के लिए टॉप 8 में रहना था। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। मनु भाकर 11वें स्थान पर रहीं। भारत की इस निशानेबाज ने रेपिड राउंड में 290 और प्रिसिजन राउंड में 292 अंक हासिल किए। प्रिसिजन राउंड में मनु पांचवें नंबर पर रहीं। अब उन्हें टोक्यो ओलंपिक से खाली हाथ स्वदेश लौटना पड़ेगा। मनु भाकर ने तीरंदाजी की कई स्पर्धाओं में शिरकत की लेकिन एक भी पदक नहीं जीत पाईं। इसके अलावा एक अन्य निशानेबाज राही सरनोबत ने भी निराश किया।

धाविका दुती चंद ने भारत को निराश किया है। उनसे इस बार मेडल की उम्मीद की जा रही थी लेकिन वह उम्मीदों पर खरी नहीं उतरीं। वह महिलाओं की 100 मीटर (हीट 5) में सातवें नंबर पर रहीं। तीन हजार पुरुषों की स्टीपलचेज स्पर्धा में भारत के अविनाश साबले फाइनल में जगह नहीं बना पाए। उन्होंने इस दौरान बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाया। लेकिन फाइनल के लिए क्वालीफाई नहीं कर सके। वह सातवें स्थान पर रहे। अविनाश  8.18.12 समय के साथ राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाने में सफल रहे। साबले ने मार्च में फेडरेशन कप में अपने रिकॉर्ड को तोड़ दिया।

बॉक्सिंग में भारत को निराश हाथ लगी है। सिमरनजीत कौर 60 किग्रा महिला भार वर्ग के अंतिम 16 मुकाबले में हार गईं। जिसके चलते वह पहले दौर में बाहर हो गईं। उन्हें थाईलैंड की सुदापोर्न सीसोंदी ने 5-0 से शिकस्त दी। इस हार के बाद सिमरनजीत कौर टोक्यो ओलंपिक में बाहर हो गईं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here