धर्मनगरी हरिद्वार में फंसे हजारों यात्री, जिला प्रशासन पर भड़के लोग

हरिद्वार : कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए भारत सरकार ने पहले जनता कर्फ्यू उसके बाद 21 दिनों का लोग डाउन घोषित किया है। देश में हुए लॉक डाउन के कारण धर्मनगरी हरिद्वार में आये लगभग हजारों यात्री हरिद्वार में ही फंस गए हैं। जनता कर्फ्यू के बाद यात्रियों को हरिद्वार से निकलने की उम्मीद थी लेकिन उत्तराखंड सरकार द्वारा लिया गया 31 मार्च तक का निर्णय उस समय उनके लिए बाधा बना। 21 दिनों का लॉक डाउन का फैसला हरिद्वार में फंसे हुए यात्रियों के लिए मुसीबत बन गया। हरिद्वार में फंसे यात्रियों का गुस्सा जिला प्रशासन पर निकल रहा है। जिला प्रशासन द्वारा उन्हें कहीं जाने की अनुमति नहीं दी जा रही है। लॉक डाउन  के चलते हजारों की संख्या में यात्री हरिद्वार में फंसे हुए हैं. जिसमें कई यात्री होटलों में कई यात्री धर्मशाला में फंसे हुए हैं यात्रियों को खाने पीने के लिए भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.

धर्म नगरी में फंसे यात्रियों का कहना है कि प्रशासन द्वारा हमारी किसी न किसी तरह से घर जाने की व्यवस्था कराई जाए। यहां पर हमारी ना खाने की व्यवस्था हो पा रही है और ना ही रहने की। जो पैसे थे वह भी अब खत्म हो चुके हैं। इसी कारण हमारी प्रशासन से मांग है कि किसी न किसी तरह वह हमारी घर जाने की व्यवस्था कराएं। घर पर हमारे परिवार को भी परेशानियों का सामना कर रहा है.

वहीं अपर मेलाधिकारी हरवीर सिंह का कहना है कि लॉक डाउन के कारण कई यात्री हरिद्वार में फंस गए थे जिनकी प्रशासन द्वारा व्यवस्था कराई जा रही है। कई लोगों को उनके घर के लिए भेज दिया गया है लेकिन उसके बावजूद भी कई यात्री अभी भी हरिद्वार में ही हैं जिनकी प्रशासन जल्द से जल्द व्यवस्था कराएगा। तब तक प्रशासन उनकी रहने और खाने की व्यवस्था पर पूरी तैयार ध्यान दे रहा है ताकि उन्हें किसी भी तरह की कोई समस्या ना हो.

हरिद्वार में फंसे हुए यात्रियों के लिए प्रशासन द्वारा उचित व्यवस्था की गई- डीएम

वहीं हरिद्वार के जिलाधिकारी का कहना है कि हरिद्वार में फंसे हुए यात्रियों के लिए प्रशासन द्वारा उचित व्यवस्था की गई है। उनके लिए आदेश दिए गए हैं कि जहां वह रह रहे हैं वहीं उनके खाने की व्यवस्था की जाए। साथ ही कई यात्रियों को प्रशासन द्वारा उनके घर जाने के लिए व्यवस्था भी की जा रही है ताकि वे जल्द से जल्द अपने घर पहुंच जाएं। प्रशासन यात्रियों के लिए उचित व्यवस्था बनाने में लगा हुआ है। उम्मीद करते हैं कि एक-दो दिन में सभी व्यवस्थाएं संतोषजनक हो जाएगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here