नेपाल के रास्ते भारत आ सकता है ये खतरनाक वायरस, भारत-नेपाल सीमा पर अलर्ट, जानें पूरी जानकारी

चम्पावत: चीन में इन दिनों कोरोना वायरस को खौफ है। अब तक कई लोगों की मौत हो चुकी है। लोगों के जरिये ये वायरस दुनियाभर में कहीं भी पहुंच सकता है। कुछ देशों में इसके मरीज सामने भी आ चुके हैं। भारत में इसको लेकर विशेष सुरक्षा बरती जा रही है। इस वायरस के नेपाल के रास्ते भारत में पहुंचने के आसार भी नजर आ रहे हैं।

भारत-नेपाल सीमा पर अलर्ट

वायरस के खतरे को देखते हुए भारत-नेपाल सीमा पर अलर्ट जारी कर दिया गया है। अलर्ट को देखते हुए हर आने-जाने वाले की स्वास्थ्य जांच की जा रही है। यह वायरस व्यक्ति के भीतर होता है। यह सी-फूड से जुड़ा वायरस है। जो वैश्विक स्तर पर है। इसका पहला मरीज चीन में था जो 5 जनवरी 2020 को मर चुका है। कोरोना वायरस चीन के साथ ही एशिया के दूसरे देशों में पांव पसार रहा है। अब तक इस वायरस के तीन मामले जापान और थाइलैंड और एक मामला दक्षिण कोरिया में सामने आ चुका है।

भारत में भी मरीज

भारत के बीहार में भी चीन से लौटी एक युवती में इसके होने की खबर है। चीन से लौटे दो लोगों को मुंबई में निगरानी में रखा। केरल लौटे 20 से अधिक लोगों को भी निगरानी में रखा गया है।चीन के अलावा फ्रांस में 2, ऑस्ट्रेलिया में एक, थाईलैंड में 4, जापान में 2, दक्षिण कोरिया में 2, अमेरिका में 2, वियतनाम में 2, सिंगापुर में 3, नेपाल में एक, हांगकांग में पांच, मकाऊ में 2 और ताइवान में 3 कोरोना वायरस के मामले सामने आए हैं।

कोरोना वायरस क्या है?
डब्ल्यूएचओ के मुताबिक कोरोना वायरस सी-फूड से जुड़ा है. कोरोना वायरस विषाणुओं के परिवार का है और इससे लोग बीमार पड़ रहे हैं. यह वायरस ऊंट, बिल्ली तथा चमगादड़ सहित कई पशुओं में भी प्रवेश कर रहा है. दुर्लभ स्थिति में पशु मनुष्यों को भी संक्रमित कर सकते हैं. इस वायरस का मानव से मानव संक्रमण वैश्विक स्तर पर कम है.

कोरोना वायरस क लक्षण
कोरोना वायरस के मरीजों में आमतौर पर जुखाम, खांसी, गले में दर्द, सांस लेने में दिक्कत, बुखार जैसे शुरुआती लक्षण देखे जाते हैं. इसके बाद ये लक्षण निमोनिया और किडनी को नुकसान पहुंचाते हैं.

कोरोना वायरस का इलाज
अभी तक कोरोना वायरस से निजात पाने के लिए कोई वैक्सीन नहीं बनी है. इस वायरस के इलाज के लिए वैक्सीन बनाने का काम वैज्ञानिक कर रहे हैं.

कोरोना वायरस से बचाव
1. अपने हाथों को अच्छी तरह साबुन से धोएं. अगर साबुन ना हो तो सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें.
2. अपनी नाक और मुंह को कवर करके रखें.
3. बीमार लोगों से थोड़ी दूरी बनाएं. उनके बर्तन का इस्तेमाल ना करें और उन्हें छुए नहीं. इससे मरीज और आप दोनों ही सुरक्षित रहेंगे.
4. घर को साफ रखें और बाहर से आने वाली चीजों को भी साफ करके ही घर में लाएं.
5. नॉन वेज खासकर सी-फूड खाने से बचें, क्योंकि कोरोना वायरल सी-फूड से ही फैला है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here