ये होंगी ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाइन की खूबियां

रेल लाइनसंवाददाता। उत्तराखंड में पहाड़ की तस्वीर बदलने की क्षमता रखने वाली कर्णप्रयाग-ऋषिकेश रेल लाइन का कल रेल मंत्री सुरेश प्रभु गैरसैंण में शिलान्यास करेंगे। इस रेल लाइन के बनने से जहां सफर सुरक्षित हो जाएगा तो वहींं समय की बचत भी होगी। इस रेल लाइन की लागत क्या होगी और ये स्टेशन कहां – कहां स्टेशन बनाए जाएंगे, आईए आपको बताते हैं।

1 – ऋषिकेश से कर्णप्रयाग तक बनने वाली इस रेल लाइन की दूरी 126 किलो मीटर है।

2 – ऋषिकेश से कर्णप्रयाग तक जाने में आठ घंटे का समय लगाता है रेल लाइन के बन जाने से यह सफर ढाई से तीन घंटे का हो जाएगा।

3 – ऋषिकेश से कर्णप्रयाग तक रेलवे परियोजना में 300 हेक्टेयर से अधिक वन भूमि आ रही है।

4 – इस रेल लाइन पर 12 स्टेशन प्रस्तावित है जिनमें न्यू ऋषिकेश, शिवपुरी, ब्यासी, देवप्रयाग, आक्जीलरी, मलेथा, श्रीनगर, धारी, रुद्रप्रयाग, गौचर और कर्णप्रयाग है।

5 – इस रेलवे लाइन पर 17 सुरंग बनेंगी और साथ में 12 एस्केप सुरंग भी होंगी।

6 – रेलवे ट्रैक पर कुल 16 पुल बनेंगे जिसमें से पांच स्थानों पर दोहरे पुल होंगे

7 – 105 किमी रेल लाइन सुरंग में होकर जाएगी।

8 – 126 किलोमीटर लंबी इस रेलवे लाइन में प्रति किलोमीटर रेल लाइन के निर्माण में 134.31 करोड़ रुपए का खर्च आएगा।

9 – यह रेल लाइन पांच जिलों को कवर करेगी। इनमें देहरादून, पौड़ी, टिहरी, चमोली और रुद्रप्रयाग जनपद शामिल हैं।

10 – इस परियोजना पहले चरण के लिए 16 हजार दो सौ करोड़ रूपए की मंजूरी मिली है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here