चंदे के पैसे से खेलने पहुंची बेटियों ने जीते सोने के तमगे, लोगों ने फूल-मालाओं से किया स्वागत

पिथौरागढ़: कहते हैं ना प्रतिभाओं को कोई रोके नहीं रोक सकता। मुश्किलें कैसी भी हों, वो हर मुश्किल को पार पर जीत हासिल कर लेती है। पिथौरागढ़ जिले की थल तहसील के दूरस्थ गांव पांखू की दो बेटियों में ऐसी प्रतिभाग थी, जिसे ना तो सरकार पहचान पाई और ना खेल विभाग। दोनों बच्चियों का चयन राज्य स्थरीय प्रतियोगिता के लिए हुआ। खेलने के लिए देहरादून आना था, लेकिन आने के लिए उनके परिजनों के पास पैसा नहीं था, लोगों ने दोनों के लिए चंदा जमा किया और उनको देहरादून भेजा। परिणाम भी ऐसे आए कि लोगों ने सोने के तमगे जीकर घर लौटी बेटियों का जोरदार स्वागत किया।

पांखू क्षेत्र की निकिता और रिया ने ना केवल स्वर्ण पदक जीता बल्कि दोनों चयन राष्ट्रीय प्रतियोगिता के लिए भी हुआ है। सवाल ये है कि क्या इस बार भी खेल विभाग उनको खर्च दे पाएगा या नहीं। सरकार उनकी प्रतिभा को ताकत देगी या नहीं या लोगों को फिर से चंदा करना होगा। 18 से 21 सितंबर तक देहरादून के महाराणा प्रताप स्पोट्र्स कॉलेज में राज्य स्तरीय बेसिक एथलेटिक्स प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था। पिथौरागढ़ जिले से जूनियर वर्ग में पांखू क्षेत्र की निकिता कार्की ने 600 मीटर व 400 मीटर दौड़ में स्वर्ण पदक हासिल किया। वहीं, प्राथमिक वर्ग की 400 मीटर दौड़ में पांखू की ही रिया अंडोला ने भी स्वर्ण पदक जीता। निकिता सरस्वती विद्या मंदिर पांखू में कक्षा सात और रिया वेकन पब्लिक स्कूल में कक्षा पांच में पढ़ती हैं।

लोगों ने पांच हजार जमा कर बालिकाओं को राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए देहरादून भेजकर उनका हौसला बढ़ाया। दोनों बालिकाएं क्षेत्र की जनता की उम्मीदों पर खरा उतरकर स्वर्ण पदक जीतकर वापस लौटीं। पांखू पहुंचने पर निकिता और रिया का फूल-मालाओं से जोरदार स्वागत किया गया। दोनों बालिकाएं राष्ट्रीय स्तर पर भी पदक जीतकर क्षेत्र का नाम रोशन करेंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here