हॉस्टल में मिला मेडिकल छात्रा का शव, चादर के सहारे पंखे से लटकी मिली

तीर्थंकर महावीर विश्वविद्यालय की एक मेडिकल छात्रा का शव सोमवार दोपहर विश्वविद्यालय के गर्ल्स हॉस्टल में पंखे से लटका मिला। पुलिस घटनास्थल की जांच कर रही है। युवती की आत्महत्या की खबर मिलने पर परिजन यूनिवर्सिटी पहुंचे। मृतका के परिजनों ने आत्महत्या पर सवाल खड़े किए हैं। उनका कहना है कि उनकी बेटी आत्महत्या नहीं कर सकती। उन्होंने हत्या का आरोप लगाया है।

छात्रा वैशाली की मां ने कहा कि बेटी ने मुझसे फोन पर सुबह साढ़े आठ बजे बात की. जब वह ठीक थी तो अचानक आत्महत्या क्यों कर लेती? मामले की निष्पक्ष जांच के बाद दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाए।

हापुड़ की रहने वाली डॉ. वैशाली चौधरी (23 वर्ष) टीएमयू में एमडीएस यानी  की मास्टर ऑफ डेंटल सर्जरी की द्वितीय वर्ष की छात्रा थी। वह हॉस्टल की चौथी मंजिल के कमरे 437 में रहती थी। इस कमरे में दो लड़कियां प्रिया और रंगोली भी रहती हैं। रविवार की छुट्टी में रंगोली अपने घर गई है। घटना के वक्त प्रिया डेंटल कॉलेज में थी। वैशाली सुबह 11 बजे कॉलेज से हॉस्टल ले जाने के लिए कह कर आई। आधे घंटे बाद प्रिया भी हॉस्टल पहुंच गई। उसने देखा कि कमरा अंदर से बंद था। फिर उसने जोर से दरवाजा खटखटाया, लेकिन वह नहीं खुला। इस पर प्रिया ने खिड़की से बाहर झांका और अंदर का नजारा देखकर दंग रह गई। कमरे में वैशाली की लाश चादर के सहारे पंखे से लटकी हुई थी।

इसकी सूचना तुरंत हॉस्टल प्रबंधन और पुलिस को दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा और मृतका के परिजनों को इसकी सूचना दी गई। परिजनों ने हत्या का आरोप लगाया है और निष्पक्ष जांच की मांग करते हुए दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

पिता ने पुलिस को दी तहरीर में दो युवकों आशीष जाखड़ और समर्थ पर शक जताते हुए इनके कारण बेटी के खुदकुशी करने की बात कही है। पुलिस ने दोनों के खिलाफ आत्महत्या के लिए मजबूर करने की धारा 306 में केस दर्ज कर लिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here