आपको अब भी नहीं पता कि तनिष्क के नए एड पर हिंदू – मुस्लिम क्यों हो गया? तो ये पढ़िए

तनिष्क ऐड का वीडियो ग्रैब

 

क्या आपको अब भी नहीं पता कि तनिष्क ज्वेलरी आजकल क्यों चर्चा में आ गया है। चलिए आपको हम बताते हैं कि ऐसा क्या हो गया कि तनिष्क ज्वेलरी सोशल मीडिया पर छा गया और तनिष्क को इसके बाद क्या कदम उठाना पड़ा।

दरअसल टाटा ग्रुप के ज्वेलरी ब्रांड तनिष्क ने हाल में एक विज्ञापन कैंपन लांच किया। तनिष्क ने एकत्वम नाम से ज्वेलरी रेंज पेश की है। इसी के लिए एक एड जारी हुआ। इस विज्ञापन में एक गर्भवती महिला की गोदभराई दिखाई गई है जिसने साड़ी पहन रखी है और उसकी सास सेरेमनी में ले जा रही हैं। वीडियो खत्म होने के बाद महिला अपनी सास, जिन्होंने सलवार सूट पहन रखा है और सिर पर दुपट्टा डाल रखा है, उससे पूछती हैं- मां, लेकिन यह रस्म तो आपके घर में होती भी नहीं न, इसपर सास का जवाब आता है- लेकिन बिटिया को खुश रखने की रस्म तो हर घर में होती है न।

तनिष्क का ये ऐड आते ही देश में कई लोग नाराज हो गए। सोशल मीडिया पर इसे कुछ लोगों ने इसे लव जिहाद को बढ़ावा देने वाला ऐड बताया और इसे हटाने की मांग करने लगे। ट्वीटर पर बाकायदा #तनिष्क_माफी_मांग  और #BoycottTanishq ट्रेंड करने लगा। कंगना रानौत ने भी इस एड के फिल्मांकन की आलोचना की। कंगना ने ट्वीटर पर अंग्रेजी में लिखा जिसका मोटा भाव ये हुआ कि,कॉन्सेप्ट से इतनी समस्या नहीं जितनी इसे फिल्माए जाने को लेकर है। हिंदु बहु को मुस्लिम परिवार की दया पर दिखाया गया है।

कई लोग ट्वीटर पर रतन टाटा के खिलाफ भी लिख रहें हैं। आपको बता दें कि तनिष्क ज्वेलरी भारत के प्रमुख ज्वेलरी ब्रांड में से एक है। ये मूल रूप से टाटा ग्रुप ऑफ कंपनीज का एक उपक्रम है। टाटा ग्रुप के मालिक रतन टाटा हैं।

हालांकि कई लोग इस विज्ञापन की तारीफ भी कर रहें हैं। बॉलीवुड के निर्देशक Onir ने इस एड कैंपने के विरोध को बेहद दुखी करने वाला बताया।

वैसे फिलहाल खबर ये है कि विरोध के बाद अब तनिष्क ने अपना ये एड कैंपेन बंद कर दिया है। इसकी आधिकारिक सूचना दे दी गई है। तनिष्क ने अपने आधिकारिक सोशल मीडिया प्लेटफार्म्स पर से भी इसे हटा लिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here