हेमकुंड साहिब जा रहे यात्रियों ने की ऐसी हरकत, स्थानीय युवाओं ने कर दी कुटाई

श्रीनगर: श्रीनगर में सोमवार को उस वक्त बाजार में अफरा-तफरी मच गई, जब स्थानीय युवाओं की हेमकुंड साहिब जा रहे यात्रियों झड़प हो गई। पुलिस ने यात्रियों का चालान कर दिया था। गुस्साई यात्रियों ने लोकल युवाओं को जबरन रोकर उनका चालान करने की मांग करने लगे। इस बात तो लेकर दोनों पक्षों के बीच मजकर मारपीट हो गई।

मारपीट में एक यात्री चोटिल हो गया। पुलिस ने किसी तरह मामला शांत किया। इस संबंध में किसी भी पक्ष की ओर से कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई गई है। वहीं, स्थानीय लोगों ने बाइक से हेमकुंड साहिब की यात्रा पर रोक लगाने की मांग की है। दोपहर करीब एक बजे पालिका तिराहे पर पुलिस नियमित चेकिंग के दौरान दुपहिया वाहनों का चालन कर रही थी। इसी दौरान वहां तैनात यातायात उपनिरीक्षक आरसी पांडे ने ऋषिकेश की ओर से आ रहे हेमकुंड साहिब यात्रियों के कुछ दुपहिया वाहनों को रोकर चालान काटा।

चालान कटने के बाद यात्री वहीं रुक गए और वहां से गुजर रहे अन्य दुपहिया वाहनों को रोक कर चालान के लिए पुलिस के पास लाने लगे। इस पर स्थानीय युवक यात्रियों से उलझ गए जो थोड़ी देर में ही मारपीट में बदल गई। यात्रियों और स्थानीय युवाओं में मारपीट होते देख कई अन्य स्थानीय युवा भी यहां एकत्र हो गए और यात्रियों की जमकर धुनाई कर दी। मारपीट में एक यात्री के सिर पर भी चोट आई। मौके पर पहुंची पुलिस ने किसी तरह इन्हें तितर-बितर किया और कुछ यात्रियों को थाने ले आई। कोतवाल एनएस बिष्ट ने कहा कि चालान काटने के दौरान यात्रियों की स्थानीय युवाओं से झड़प हो गई थी।

4 COMMENTS

  1. पुलिस की भूमिका संदिग्ध हैं ।पुलिस खुद ही यातायात के नियम का पालन नही करती हैं ।बाहरी बोलकर देश के टुकड़े मत करो । पंजाब के लोगो से निवेदन है कि की उत्तराखंड व देश की इज्जत करे । पहाड़ के लोग सीधे व सरल होते हैं परंतु स्थानीय नेताओ से अथिति देवो भव की आशा की जाती हैं ।जय उत्तराखंड जय भारत।।

    • Police kuch b kare but jb khud galat na ho to koi kuch nhi bigad sakta, but ye log eshe sochte hai ki in logo ne kharid liya uttarakhand ko..abhi 20june ki baat hai gauchar me in logo ne ek barat ki gadi pe hamla kiya jisme ki sari aurate or mere sasurji or beta the .ye log bol re the ki inko mar k niche nadi me feko, gadiya no plet k bina thi ek ka no tha fir ja mere bete ne police ko batya to pakde gaye ye srinagar me

  2. Niyam sbke liye brabar hote h…. agr yatri niyam tode to chalan fir local logo ko chhot kyo…..ye bhedbhav kyo…… police ki dohri niti glat h…shame on u Uttarakhand police
    Or ye agr yatri aane band ho gye to Uttarakhand tourism ka kya hoga..

Leave a Reply to Gauchar Cancel reply

Please enter your comment!
Please enter your name here