देहरादून में कम हुई स्ट्रीट डॉग्स की आबादी, सर्वे में हुआ खुलासा

ह्यूमेन सोसाइटी इंटरनेशनल इंडिया (HSI/India) के एक सर्वे से पता चला है कि देहरादून में स्ट्रीट डॉग की आबादी में 32% की गिरावट आई है। अक्टूबर 2020 में किए गए सर्वेक्षण से पता चला है कि 26,490 सड़क कुत्तों को सफलतापूर्वक निष्फल और टीकाकरण किया गया है जिनमें से 13,945 फीमेल डॉग हैं और 12,545 मेल डॉग हैं।

एचएसआई / इंडिया ने सड़क के कुत्तों की आबादी को नियंत्रित करने, मानव-कुत्ते संघर्ष को कम करने और कुत्तों के कल्याण में सुधार करने के लिए नवंबर 2016 में देहरादून में अपना पशु जन्म नियंत्रण (एबीसी) कार्यक्रम शुरू किया। कुत्तो की जनसंख्या वृद्धि की गतिशीलता को बदलते हुए और कुत्तों और मनुष्यों के जीवन में सुधार लेन के लिए अब तक इस कार्यक्रम ने देहरादून के कोर ज़ोन में 80.4% और नए ज़ोन्स; पश्चिम और पूर्व में 70.3% की नसबंदी की है।

एचएसआई / इंडिया के कम्पैन्यन ऐनिमल्स प्रोग्राम के इंटेरिम डायरेक्टर, केरेन नजरेथ का कहना है, “देहरादून में काम के माध्यम से, हम दिखा रहे हैं कि बड़े पैमाने पर नसबंदी और टीकाकरण सड़क के कुत्तों में जनसंख्या वृद्धि को कम कर सकता है। गहन सामुदायिक जुड़ाव के साथ यह एक मॉडल परियोजना बनने की संभावना है जिसे भारत के कई शहर सिख सकते है। हम उत्तराखंड में पशु कल्याण में सुधार के लिए हमारे समुदाय के स्वयंसेवकों और सरकारी सहयोगियों के आभारी हैं।

डॉ. डीसी तिवारी, सीनियर वेट, देहरादून नगर निगम, कहते हैं, “इन वर्षों में स्ट्रीट डॉग्स की आबादी को बहुत हद तक नियंत्रित किया गया है। लेकिन सड़कों पर अवांछित पिल्लों को भी रोकने के लिए मैं शहर के लोगों से अनुरोध करता हूं कि वे अपने पालतू कुत्तों की भी नसबंदी करे और साथ ही उनका और उनकी ब्रीडिंग डिटेल्स नगर निगम के साथ रजिस्टर करें।“

सर्वे के मुख्य निष्कर्ष:

  • अक्टूबर -2016 से स्ट्रीट डॉग के घनत्व में 32% की गिरावट आई है।
  • देहरादून पुराने वार्ड (मुख्य शहर) में 80.4% कुत्तों की नसबंदी की गई और नए वार्डों में in 70.3%।
  • 1.9% स्तनपान कराने वाली मादाएं, 1.8% पिल्ले देखने को मिली. अक्टूबर 2016 की तुलना में, स्तनपान कराने वाली मादाओ में 75.0% की गिरावट है, और पिल्लो में 55.0% की गिरावट आई है।
  • एबीसी कार्यक्रम कुत्तों में स्किन इन्फेक्शन्स को कम रखने के लिए जारी है।
  • देहरादून एबीसी कार्यक्रमों की नई नोडल सुविधा होगी। यह अपने कुत्तों को देहरादून एबीसी सुविधा के माध्यम से निष्फल भी करेगा, जिसे एचएसआई / इंडिया द्वारा प्रबंधित किया जाएगा।

एचएसआई / इंडिया वर्तमान में उत्तराखंड, वडोदरा और लखनऊ में स्थानीय नगर निगम और राज्य पशु कल्याण बोर्ड के सहयोग से पशु जन्म नियंत्रण कार्यक्रम चलाता है। पशु जन्म नियंत्रण कार्यक्रम सड़क कुत्ते की आबादी को नियंत्रित करने का एकमात्र कानूनी तरीका है। पशु जन्म नियंत्रण कार्यक्रमों के अलावा, एचएसआई / इंडिया ने अभय संकल्प नामक एक कम्युनिटी इंगेजमेंट प्रोग्राम भी चलाया है, जिसमें शहर के कुत्तों के बारे में लोगो की चिंताओं को समझने और रेबीज व कुत्ते के व्यवहार और ऐसे ही अन्य पहलुओं की बेहतर समझ की सुविधा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here