उत्तराखंड : 5 करोड़ की धोखाधड़ी मामले में STF की बड़ी कार्रवाई, महिला गिरफ्तार

देहरादूनः क्रिप्टो करेंसी इन्वेस्टमेंट के खिलाफ उत्तराखंड STF की कार्रवाई जारी है। इसी क्रम में STF टीम ने हैदराबाद में 5 करोड़ के क्रिप्टो करेंसी इन्वेस्टमेंट स्कीमों की धोखाधड़ी मामले में कंपनी मालिक समेत एक महिला को हैदराबाद के एक होटल से गिरफ्तार किया है। मुख्य आरोपी कैलाश मूल रूप से मोहाली चंडीगढ़ का रहने वाला है। जबकि महिला आरोपी सताक्षी शुभम भी मोहाली चंडीगढ़ की रहने वाली बताई जा रही है।

STF के मुताबिक, देहरादून के विकासनगर में कुछ लोगों के साथ पकड़े गए गिरोह द्वारा क्रिप्टो करेंसी में मोटा मुनाफा दिलाने के लालच में 5 करोड़ से अधिक की विभिन्न कंपनियों में निवेश कराकर धोखाधड़ी को अंजाम दिया गया। इस मामले में 11 शिकायतकर्ताओं द्वारा विकासनगर थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया था। STF के मुताबिक, तेलंगाना के हैदराबाद स्थित एक होटल से गिरफ्तार किए गए क्रिप्टो करेंसी में धोखाधड़ी करने वाला सरगना सहित महिला पिछले 4 महीनों से वहां छिपकर बैठे थे। जिन्हें बीती रात गिरफ्तार कर ट्रांजिट रिमांड में उत्तराखंड लाया गया है।

STF को प्रारंभिक जांच पड़ताल में पता चला है कि गिरोह द्वारा मल्टी लेवल मार्केटिंग (Multi Level Marketing) के नाम पर धोखाधड़ी की गई। संभावित धोखाधड़ी 1 अरब के ऊपर होने की आशंका जताई गई है। उत्तराखंड एसटीएफ के मुताबिक, देहरादून के विकासनगर थाने में बीते दिनों प्रवीण सिंह, अशोक मल्ल समेत 11 शिकायतकर्ताओं द्वारा तहरीर देकर मुकदमा दर्ज कराया गया था।

शिकायतकर्ताओं के मुताबिक, उन्हें बीते दिनों कुछ ऐसे व्यक्ति मिले जिनके द्वारा स्वंय को 1. holiday hutzz, 2. HHZ international, 3. Gulf coin gold (gcc), 4. gloriant holiday huttz Pvt Ltd, 5. Insta gold, 6. great life group, 7. crptobull exchange आदि कंपनियों का स्वामी होना बताया गया. ऐसे इन कंपनियों से संबंधित विभिन्न स्कीमों में धन निवेश करने के एवज में 3 से 5 प्रतिशत का लाभ दिलाने का लालच दिया गया।

ऐसे में उनकी बातों में आकर शिकायतकर्ता सहित 11 अन्य लोगों के द्वारा 5 करोड़ से अधिक की धनराशि निवेश की गयी। एक के बाद एक 5 करोड़ की रकम ट्रांसफर होने के बाद खुद को 7 कंपनी से ज्यादा के मालिक बताकर आरोपी सभी की धनराशि हड़पकर फरार हो गए। इसके बाद से ही उत्तराखंड एसटीएफ इनके पीछे लगी थी।

STF के मुताबिक, इस मामले में गठित टीम द्वारा घटना में प्रयुक्त बैंक खातों, वेबसाइट एवं अभियुक्तों द्वारा शिकायतकर्ताओं से प्राप्त धनराशि की जानकारी प्राप्त की गई। साथ ही सर्विलांस जैसे आधुनिक तकनीकों का प्रयोग कर अभियुक्तों के संबंध में जानकारी ली गई तो पता चला कि अभियुक्त हैदराबाद में कहीं छिपे हुये हैं।

ऐसे में तत्काल टीम को हैदराबाद, तेलंगाना के लिए रवाना किया गया। जहां स्थानीय पुलिस के सहयोग से करोड़ों की धोखाधड़ी मामले में कंपनी के मालिक सहित महिला को होटल से गिरफ्तार किया गया। दोनों अभियुक्त को ट्रांजिट रिमांड पर उत्तराखंड लाया गया है। अभियुक्तों से विस्तृत पूछताछ कर उनसे जुड़े नेटवर्क के बारे में जानकारी जुटाकर आगे की कार्रवाई जारी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here